NDTV Khabar

PM मोदी ने पुणे के अस्पताल में भर्ती अरुण शौरी से मुलाकात कर उनका हाल जाना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने रविवार शाम यहां एक अस्पताल में भर्ती पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी (Arun Shourie) से मुलाकात की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
PM मोदी ने पुणे के अस्पताल में भर्ती अरुण शौरी से मुलाकात कर उनका हाल जाना

PM मोदी ने पुणे के अस्पताल में भर्ती अरुण शौरी का हाल जाना.

खास बातें

  1. PM मोदी ने अरुण शौरी से मुलाकात की
  2. पुणे के अस्पताल में भर्ती हैं पूर्व केंद्रीय मंत्री
  3. 1 दिसंबर को अस्पताल में किया गया था भर्ती
पुणे:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने रविवार शाम यहां एक अस्पताल में भर्ती पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी (Arun Shourie) से मुलाकात की और उनके साथ करीब 15 मिनट तक वक्त बिताया. शहर के बंड गार्डन इलाके में स्थित रूबी हॉल क्लीनिक के वरिष्ठ चिकित्सकों के मुताबिक प्रधानमंत्री शाम करीब छह बजे यहां पहुंचे. पीएम मोदी ने ट्वीट किया, 'पुणे में, मैंने पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी जी से मुलाकात की. उनकी सेहत के बारे में जानकारी ली और उनके साथ शानदार बातचीत हुई. हम उनके लंबे और स्वस्थ जीवन की कामना करते हैं.' डॉक्टरों ने कहा, 'प्रधानमंत्री ने शौरी के साथ 15 मिनट बिताए. उन्होंने बातचीत के दौरान शौरी को गले लगा लिया.' उन्होंने बताया कि मोदी ने शौरी के कमरे के बाहर उनके परिजनों से भी बात की. अस्पताल के सूत्रों के मुताबिक यह पूर्व नियोजित दौरा नहीं था. हवाईअड्डे के लिए रवाना होने से पहले पीएम मोदी ने करीब 45 मिनट तक अस्पताल में वक्त बिताए.


पुलिस महानिरीक्षकों और पुलिस महानिदेशकों के तीन दिवसीय सम्मेलन के समापन कार्यक्रम में शामिल होने प्रधानमंत्री पुणे में थे. अरुण शौरी यहां से करीब 60 किलोमीटर दूर लवासा में अपने बंगले के निकट टहलने के दौरान एक दिसंबर को गिर गए थे, जिसके बाद उनका इस अस्पताल में इलाज चल रहा है. डॉक्टरों ने कहा था कि 78 वर्षीय पूर्व भाजपा नेता को दिमाग में चोट आई है और सूजन है. उन्होंने कहा कि शौरी के स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है.

टिप्पणियां


केंद्र में 1999 से 2004 के बीच अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली सरकार में अरुण शौरी मंत्री थे, हालांकि वह मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों के मुखर आलोचना करते रहे, जिसके बाद सत्तारूढ़ दल से उनके रास्ते अलग हो गए. शौरी रेमन मैगसायसाय पुरस्कार पा चुके हैं और वह 1967 से 1978 के बीच विश्व बैंक में भी अर्थशास्त्री के तौर पर काम कर चुके हैं. 
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... नागरिकता कानून को लेकर लोकसभा स्पीकर ने EU को लिखा खत,  कहा- CAA के खिलाफ प्रस्ताव गलत नजीर होगा

Advertisement