NDTV Khabar

PNB घोटाला: आईसीएआई ने धोखाधड़ी मामले में बैक अधिकारियों के बयान लिये

चार्टेड एकाउंटेंट के शीर्ष संस्थान आईसीएआई ने 11,400 करोड़ रुपये की पीएनबी धोखाधड़ी मामले में बैंक के एक शीर्ष अधिकारी का बयान लिया है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
PNB घोटाला: आईसीएआई ने धोखाधड़ी मामले में बैक अधिकारियों के बयान लिये

पंजाब नेशनल बैंक (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. आईसीएआई ने धोखाधड़ी मामले में बैक अधिकारियों के बयान लिये
  2. चार्टेड एकाउंटेंट के शीर्ष संस्थान है आईसीएआई
  3. आईसीएआई पीएनबी घोटाला मामले में ऑडिटरों की भूमिका की जांच कर रहा है
नई दिल्ली: चार्टेड एकाउंटेंट के शीर्ष संस्थान आईसीएआई ने 11,400 करोड़ रुपये की पीएनबी धोखाधड़ी मामले में बैंक के एक शीर्ष अधिकारी का बयान लिया है. हालांकि, संस्थान ने इस बात पर जोर दिया है कि जब तक मामले में अनुशासनात्मक कार्रवाई पूरी नहीं हो जाती, ऑडिटर के पेशे को लेकर किसी निष्कर्ष पर पहुंचना ठीक नहीं होगा. भारतीय सनदी लेखाकार संस्थान (आईसीएआई) पंजाब नेशनल बैंक में हुई धोखाधड़ी मामले में ऑडिटरों की भूमिका की जांच कर रहा है. संस्थान ने पीएनबी तथा गीतांजलि जेम्स के आडिटरों को कारण बताओ नोटिस जारी करने के अलावा मामले में विभिन्न पहलुओं का अध्ययन करने तथा बैंक प्रणाली के लिये सुधारात्मक उपायों के बारे में सुझाव देने के लिये उच्च अधिकार प्राप्त समूह का गठन किया है. 

यह भी पढ़ें: PNB घोटाला: विदेश मंत्रालय ने नीरव मोदी और मेहुल चोकसी का पासपोर्ट रद्द किया

धोखाधड़ी का पता लगाने में ऑडिटरों और अन्य के स्तर पर कथित चूक को लेकर कुछ तबकों में चिंता के बीच आईसीएआई ने बयान देकर कहा है कि वह मौजूदा व्यवस्था के मजबूत बनाने के हर प्रयास का समर्थन करता है. आईसीएआई की पीएनबी मामले में गठित अधिकार प्राप्त समिति की पहली बैठक 23 फरवरी को हुई.

यह भी पढ़ें: PNB ने अफवाहों का किया खंडन, कहा- विराट कोहली हमारे ब्रांड एंबेसडर बने रहेंगे

टिप्पणियां
बयान के अनुसार, ‘‘पीएनबी के अधिकारियों को तलब किया गया और कथित धोखाधड़ी में संबंधित दस्तावेज पेश करने को कहा गया. पीएनबी के पश्चिमी क्षेत्र के महाप्रबंधक मुंबई में उपस्थित हुए और अपना बयान दिया.’’ आईसीएआई ने पहले ही पीएनबी तथा गीतांजलि के आडिटरों को कारण बताओ नोटिस जारी किये गये हैं.

VIDEO: मुकाबला : बैंकों में आर्थिक घोटाले क्‍यों बढ़ रहे हैं?
संस्थान के अनुसार वह यह सुनिश्चित करेगा कि मामले में तेजी से जांच हो और जो भी चार्टेड एकाउंटेंट धोखाधड़ी में शामिल हैं, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई को लेकर प्रतिबद्ध है. उसने यह भी कहा कि जब तक अनुशासनात्मक जांच पूरी नहीं होती और मामले में जिम्मेदारी तय नहीं होती, पेशे के खिलाफ कोई निष्कर्ष निकालना ठीक नहीं होगा.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement