सरकारी कार्यक्रम में CAA विरोधी कविता पढ़ने पर कवि और एक पत्रकार गिरफ्तार, BJP नेता की शिकायत पर हुआ एक्शन

कर्नाटक के कोप्पल जिले में पिछले महीने एक सरकारी कार्यक्रम में सीएए विरोधी कविता पढ़ने के मामले में एक कवि और एक पत्रकार को गिरफ्तार किया गया है.

सरकारी कार्यक्रम में CAA विरोधी कविता पढ़ने पर कवि और एक पत्रकार गिरफ्तार, BJP नेता की शिकायत पर हुआ एक्शन

CAA विरोधी कविता पढ़ने के आरोप में कवि और पत्रकार गिरफ्तार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बेंगलुरु:

कर्नाटक के कोप्पल जिले में पिछले महीने एक सरकारी कार्यक्रम में सीएए विरोधी कविता पढ़ने के मामले में एक कवि और एक पत्रकार को गिरफ्तार किया गया है.भाजपा के एक पदाधिकारी की शिकायत के बाद यह कार्रवाई की गई है. उन्होंने आरोप लगाया था कि कवि सिराज बिसरल्ली ने कोप्पल जिले के गंगावती में जनवरी में आयोजित ‘अनेगुंडी उत्सव' में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ कविता पढ़ी थी और एक ऑनलाइन समाचार पोर्टल के सम्पादक राजबक्सी ने उसे सोशल मीडिया पर साझा किया था.

दिल्ली : शाहीन बाग में CAA के ख़िलाफ़ प्रदर्शन स्थल पर चल रही लाइब्रेरी

पुलिस ने IPC की धारा 505 के तहत उनके खिलाफ मामला दर्ज किया था. बिसरल्ली और राजाबक्सी ने मंगलवार को जिला अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया था. अदालत ने उनकी जमानत याचिका खारिज करते हुए उन्हें जांच के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया.पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘ सिराज ने कविता पढ़ी थी और राजबक्सी ने उसे सोशल मीडिया पर साझा किया था. भाजपा के एक नेता की शिकायत के आधार पर भादंस की धारा 505 के तहत मामला दर्ज किया गया. ''

शाहीनबाग के प्रदर्शनकारियों ने अमित शाह पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप, गृह मंत्री के घर का घेराव करने की चेतावनी

उन्होंने कहा, ‘‘ वे इसके बाद फरार हो गए थे और मंगलवार को उन्होंने अदालत के समक्ष आत्मसमर्पण किया.'' इन दोनों ने अंतरिम जमानत मांगी थी. सरकारी वकील ने इसका विरोध करते हुए जांच के लिए उनकी पुलिस हिरासत की मांग की. इसके बाद अदालत ने बिसरल्ली और राजबक्सी को बुधवार दोपहर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया. पुलिस ने कहा, ‘‘ हम नए सबूत सामने आने तक इसे शायद इसे (पुलिस हिरासत) आगे बढ़ाने की मांग ना करें. हमने उनके मोबाइल फोन जब्त कर लिए हैं ताकि पता लगाया जा सके कि उन्होंने किससे जानकारी साझा की है.''

VIDEO: सिटी एक्‍सप्रेस : CAA के विरोध में शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों का मार्च



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com