NDTV Khabar

Dantewada Ground Report: ग्रामीण से मिलने का मोह छोड़ अगर मान लेते पुलिस की सलाह तो बच सकती थी बीजेपी नेता की जान

भीमा मंडावी को इस बात का अंदाजा भी नहीं होगा कि छत्तीसगढ़ पुलिस की सलाह (Naxal Attack in Dantewada) को अनदेखा करना उनकी जान ले लेगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. पुलिस ने किया था उस इलाके में जाने से मना
  2. स्थानीय हाट पर लोगों से मिलना चाहते थे एमएलए
  3. पुलिस ने इलाके की घेराबंदी की
रायपुर:

दंतेवाडा़ में नक्सली हमले (Naxal Attack in Dantewada) में अपनी जान गंवाने वाले बीजेपी विधायक भीमा मंडावी ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत बस्तर टाइगर यानी महेंन्द्र कर्मा को हराकर की थी. मंडावी अपने क्षेत्र में खासे लोकप्रिय थे. उन्हें इस बात का अंदाजा भी नहीं होगा कि छत्तीसगढ़ पुलिस की सलाह (Naxal Attack in Dantewada) को अनदेखा करना उनकी जान ले लेगा. दरअसल, छत्तीसगढ़ के डीजीपी डीएम अवस्थी ने बताया कि स्थानीय पुलिस ने भीमा मंडावी को उस रूट पर (Naxal Attack in Dantewada) न जाने की सलाह दी थी.लेकिन बछेली में सभा को संबोधित करने के बाद थोड़ी दूर पर लगे हाट में लोगों से मिलने का मोह वह छोड़ नहीं पाए. और इसी वजह से उन्होंने पुलिस की सलाह के बाद भी उस इलाके में जाने का फैसला किया.

नक्सलियों ने एक बार फिर दिया झीरमघाटी जैसी घटना को अंजाम, जाने कब-कब हुआ ऐसा हमला 


पुलिस के स्थानीय सूत्रों ने बताया कि शाम लगभग साढ़े चार बजे हाट (स्थानीय बाजार) से लोगों को संबोधित कर तीन गाड़ियों का काफिला जैसे ही बढ़ा, वहां से 400 मीटर की दूरी पर तीसरी गाड़ी में बैठे मंडावी को नक्सलियों ने अपना निशाना बना लिया. इस हमले में बुलेटप्रूफ गाड़ी के परखच्चे उड़ गए. घटना के सामने आने के बाद एनडीटीवी ने घटनास्थल का जायजा लिया. मौके पर एनडीटीवी की टीम पहुंची तो वहां हमें जूते, टिफिन और प्रचार सामग्री बिखरी पड़ी मिली.

आईडी ब्लास्ट से सड़क पर 4 फीट गहरा गढ्ढा
सूत्र बताते हैं कि जिस समय यह हमला हुआ वह वक्त नक्सलियों के लिए टीसीओसी यानी टैक्टिकल काउंटर ऑफेंसिव कैंपेन का होता है. इस समय फसल कटने के बाद नक्सली जबरन गांववालों को सरकार के खिलाफ भड़काकर हथियार चलाने की ट्रेनिंग देते हैं. यही वजह  है कि बस्तर में हुए आज तक ज्यादातर नक्सली हमले दिसंबर से मार्च के बीच में ही हुए हैं. एनडीटीवी की टीम ने जब घटनास्थल का दौरा किया तो उन्हें सड़क के बीचोंबीच चार फीट गहरा गड्ढा मिला. इससे यह साफ है कि नक्सलियों ने इस धमाके की तैयारी काफी पहले से ही करके रखी थी. 

नक्सली हमले का बीजेपी नेता और 'नोटबंदी' से कनेक्शन, सेना ने BAT के हमले को किया नाकाम

गाड़ी के उड़े परखच्चे
धमाका इतना भयानक था कि जिस गाड़ी से बीजेपी विधायक और उनके पीएसओ जा रहे थे उसके परखच्चे उड़ गए. धमाके का असर इतना जबरदस्त था कि गाड़ी सड़क से कई फीट दूर जा गिरा. कार के कई टुकड़े आसपास फैल गए. इस मामले के सामने आने के बाद पुलिस ने आसपास के इलाके में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया गया है. साथ ही पास के गांववालों से भी पूछताछ की जा रही है. 

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement