उप्र: सुल्तानपुर पुलिस का कारनामा, रेप की खबर छापने पर पत्रकार के खिलाफ ही दर्ज कर दिया केस, SP बोले- ऐसा नहीं है

पत्रकार धर्मेंद्र मिश्रा का कहना है कि सुल्तानपुर के पुलिस अधीक्षक कथित रेप की खबर अपने मुताबिक छपवाना चाहते थे लेकिन जब उन्होंने ऐसा करने से मना कर दिया तब से मामला दर्ज करने की धमकी दी जा रही थी.

उप्र: सुल्तानपुर पुलिस का कारनामा, रेप की खबर छापने पर पत्रकार के खिलाफ ही दर्ज कर दिया केस, SP बोले- ऐसा नहीं है

धर्मेंद्र मिश्रा

खास बातें

  • रेप की खबर छापने पर पुलिस ने पत्रकार के खिलाफ ही दर्ज कर दिया केस
  • पत्रकार ने प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया और मानवाधिकार आयोग से लगाई गुहार
  • पत्रकार ने व्हाट्स एप के जरिए कथित तौर पर धमकी देने का भी आरोप लगाया
यूपी:

पत्रकार ने रेप की खबर छापी तो उल्टा उसी के उपर मुकदमा दर्ज हो गया. मामला उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर जिले का है. यहां की पुलिस ने धर्मेंद्र मिश्रा नाम के एक पत्रकार के खिलाफ मारपीट और लूट का मामला दर्ज किया है. जानकारी के मुताबिक धर्मेंद्र मिश्रा एक राष्ट्रीय अखबार के ब्यूरो चीफ हैं. उनका आरोप है कि 10 सितंबर को उन्होंने एक युवती से हुए कथित रेप की खबर छापी थी और लिखा था कि पुलिस रेप की घटना पर पर्दा डालना चाहती है. इसके बाद 14 नवंबर को फिर जब रेप पीड़िता की खबर छापी तो उसके बाद 16 नवंबर को सुल्तानपुर पुलिस ने करीब सालभर पुरानी एक शिकायत पर उनपर ही मारपीट और पैसे छीनने का मामला दर्ज कर दिया.

पीड़ित पत्रकार ने सुल्तानपुर पुलिस अधीक्षक हिमांशु कुमार के खिलाफ प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया से लेकर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग तक से गुहार लगाई है. उधर सुल्तानपुर के एसपी हिमांशु कुमार का कहना है कि एक सरकारी कर्मचारी की शिकायत पर पत्रकार के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है, इससे खबर छापने का कोई ताल्लुक नहीं है.

Newsbeep

उन्नाव में रेप पीड़िता को जलाने पर अखिलेश यादव ने साधा योगी सरकार पर निशाना, कहा- BJP सरकार सामूहिक इस्तीफा दे

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हालांकि, पत्रकार धर्मेंद्र मिश्रा का आरोप है कि सुल्तानपुर पुलिस अधीक्षक कथित रेप की खबर अपने मुताबिक छपवाना चाहते थे, लेकिन जब उन्होंने ऐसा करने से मना कर दिया तब से मामला दर्ज करने की धमकी देने लगे. केस दर्ज करने से पहले कई बार व्हाट्सअप मैसेज के जरिए कथित तौर पर धमकी भी दी. उधर, कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी ने भी राज्य सरकार की आलोचना करते कहा कि पत्रकारों के खिलाफ पुलिस फर्जी मामले दर्ज करके उनकी आवाज को दबाना चाहती है.