NDTV Khabar

जुनैद हत्याकांड : 15 दिन की कड़ी मेहनत और एक सुराग के सहारे पुलिस ने दबोचा मुख्य आरोपी को

सूत्रों की मानें तो पुलिस ने ग़ाज़ियाबाद से लेकर असावती तक 7 रेलवे स्टेशनों में चढ़ने वाले लोगों की जांच की. उस समय सभी स्टेशनों में चालू मोबाइल का डंप डेटा निकाला गया.

5.8K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
जुनैद हत्याकांड : 15 दिन की कड़ी मेहनत और एक सुराग के सहारे पुलिस ने दबोचा मुख्य आरोपी को

जुनैद हत्याकांड के मुख्य आरोपी को पुलिस ने किया कोर्ट में पेश

खास बातें

  1. सीसीटीवी फुटेज और मोबाइल कॉल के सहारे आरोपी को पकड़ा
  2. 15 दिन की कड़ी मेहनत के बाद पकड़ा गया आरोपी
  3. दिल्ली से पलवल तक बनी एक कॉल आरोपी तक पहुंचने का जरिया
नई दिल्ली: जुनैद हत्याकांड के मुख्य आरोपी को महाराष्ट्र से लाकर पुलिस ने फरीदाबाद कोर्ट में पेश किया जहां से उसे 2 दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है. पुलिस हत्या में इस्तेमाल चाकू और आरोपी के खून से सने कपड़े अभी बरामद करने हैं.  पुलिस के मुताबिक ये वही शख्स है जो 22 जून को जुनैद की हत्या को अंजाम देने के बाद असावती रेलवे स्टेशन से बाइक पर सवार होकर भागा था. सीसीटीवी की तस्वीरों में वो बाइक पर सबसे पीछे बैठा देखा गया था. जीआरपी के एसपी कमलदीप गोयल के मुताबिक आरोपी हत्या को अंजाम देने के बाद सबसे पहले अपने गांव गया ,वहां से मथुरा गया फिर ट्रेन पकड़कर महाराष्ट्र पहुंचा और महाराष्ट्र के साकरी में एक कंपनी में नौकरी करने लगा.

पुलिस के मुताबिक मुख्य आरोपी के पहले पकड़े गए 5 आरोपियों से इसकी कोई जान-पहचान नहीं है. ये उस दिन दिल्ली के शिवाजी ब्रिज स्टेशन से चढ़ा और झगड़ा करने वाले लोगों में शामिल हो गया. गौरतलब है महाराष्ट्र से पकड़े गए इस आरोपी को 15 दिन की कड़ी मेहनत के बाद पकड़ा गया है. 

कैसे पकड़ा गया आरोपी
सूत्रों की मानें तो पुलिस ने ग़ाज़ियाबाद से लेकर असावती तक 7 रेलवे स्टेशनों में चढ़ने वाले लोगों की जांच की. उस समय सभी स्टेशनों में चालू मोबाइल का डंप डेटा निकाला गया. फिर ये देखा गया कि इनमें कौन-कौन से नंबर हैं जो इस रूट पर हर रोज़ एक्टिव रहते हैं. कौन सा नंबर हर रोज़ कहाँ से कहाँ तक एक्टिव रहता है. एक नंबर ऐसा मिला जो हर रोज़ दिल्ली से पलवल तक एक्टिव रहता था. लेकिन 22 जून को उसकी लास्ट लोकेशन असावती थी. उस नंबर पर फ़ोन किया गया तो नंबर बंद मिला. बस यहीं से आरोपी की पहचान हो गई.

दिल्ली से ही चाकू लेकर चढ़ा था..
पुलिस के मुताबिक आरोपी दिल्ली में एक कंपनी में सिक्योरिटी गार्ड था और दिल्ली से ही चाकू लेकर चढ़ा था. पुलिस के मुताबिक उनकी जांच के अभी तक बीफ की बात सामने नहीं आयी है. लेकिन झगड़े के दौरान साम्प्रदायिक टिप्पणी जरूर हुई.  अब जुनैद के पिता जलालुद्दीन आरोपी के लिए फांसी की मांग कर रहे हैं. आरोपी के मुताबिक उसने खून से सने कपड़े अपने गांव में छिपाए हैं जबकि चाकू एक दूसरे गांव में..जिसे बरामद करने की कोशिश की जा रही है.

क्या था पूरा मामला.
गांव खंदावली निवासी 16 वर्षीय जुनैद की ईएमयू रेल में सीट को लेकर हुए विवाद में कुछ लोगों ने चाकू मारकर हत्या कर दी थी. इस घटना में जुनैद के दो भाई भी गंभीर रूप से जख्मी हो गए थे.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement