Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

बसों में आग लगाने के आरोप पर बोली दिल्ली पुलिस- हम आग लगा नहीं रहे थे, बुझा रहे थे

डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने इस वीडियो से ली गई गई एक तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा, 'ये फोटो देखिए...देखिए कौन लगा रहा है बसों और कारों में आग...यह फोटो सबसे बड़ा सबूत है बीजेपी की घटिया राजनीति का...इसका कुछ जवाब देंगे बीजेपी के नेता.'

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने ट्वीट की यह तस्वीर
  2. नागरिकता संशोधन कानून को लेकर बवाल
  3. जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों ने किया प्रदर्शन
नई दिल्ली:

नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) की आग कब देखते-देखते दिल्ली पहुंच गई, पता ही नहीं चला. रविवार को जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Milia Islamia) के छात्रों ने इस कानून के विरोध में प्रदर्शन किया. प्रदर्शन हिंसक हो गया और दिल्ली के कुछ इलाकों में स्थिति तब बेकाबू हो गई, जब रविवार शाम जामिया नगर से लगे सराय जुलैना के पास कुछ लोगों ने DTC की तीन बसों को आग के हवाले कर दिया. कथित तौर पर जामिया के छात्रों ने इन बसों में आग लगाई. उनके साथ कुछ और लोग भी शामिल थे. जिसके बाद दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने कुछ तस्वीरें ट्वीट कर दिल्ली पुलिस पर बसों में आग लगाने का आरोप लगाया.

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें कुछ पुलिसकर्मी बसों के अंदर जार से कुछ डाल रहे हैं. डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने इस वीडियो से ली गई गई एक तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा, 'ये फोटो देखिए...देखिए कौन लगा रहा है बसों और कारों में आग...यह फोटो सबसे बड़ा सबूत है बीजेपी की घटिया राजनीति का...इसका कुछ जवाब देंगे बीजेपी के नेता.'

डिप्टी सीएम ने दूसरा ट्वीट किया, 'इस बात की तुरंत निष्पक्ष जांच होनी चाहिए कि बसों में आग लगने से पहले ये वर्दी वाले लोग बसों में पीले और सफेद रंग वाली केन से क्या डाल रहे है? और ये किसके इशारे पर किया गया? फोटो में साफ दिख रहा है कि बीजेपी ने घटिया राजनीति करते हुए पुलिस से ये आग लगवाई है.'


जामिया हिंसा के बाद पुलिस ने कहा- स्थिति नियंत्रण में, कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया

आग लगाने के आरोप पर दिल्ली पुलिस के पीआरओ रंधावा ने कहा, 'आपको वो वीडियो पूरा देखना चाहिए. बस के बाहर आग लगी थी. पुलिस आग बुझाने के लिए बसों में पानी डाल रही थी. जब हम यूनिवर्सिटी में प्रदर्शनकारियों को शांत करवा रहे थे तो वो हमारे ऊपर पत्थरबाजी कर रहे थे. इसे रोकने के लिए ही हमने आंसू गैस का इस्तेमाल किया. ये एक असाधारण स्थिति थी. यूनिवर्सिटी के भीतर पुलिस पर पथराव हो रहा था.'

जामिया हिंसा : चश्‍मदीद ने NDTV से कहा, जब बसों में आग लगाई गई तब कई यात्री अंदर ही थे

गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन कानून का पूर्वोत्तर राज्यों में काफी विरोध हो रहा है. असम, त्रिपुरा और मेघालय में भी कई जगहों पर हिंसक प्रदर्शन हुआ. तीनों राज्यों में हालात फिलहाल काबू में हैं. कई जगहों पर इंटरनेट और एसएमएस सेवाओं पर रोक लगी हुई है. पीएम नरेंद्र मोदी ने वहां के नागरिकों से शांति बनाए रखने की अपील की थी.

टिप्पणियां

VIDEO: जामिया छात्रों के प्रदर्शन में एकजुटता दिखाने पहुंचे नेता और आम लोग



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... मनोज तिवारी का हमला- 'ताहिर हुसैन ने काफी पहले कर ली थी दिल्ली के दंगों के लिए तैयारी'

Advertisement