ओबीसी आरक्षण पर नए आयोग को लेकर राजनीति तेज, कांग्रेस ने साधा सरकार पर निशाना

सोमवार शाम को राष्ट्रपति ने इस पर आयोग के गठन के प्रस्ताव को मंजूरी दी और चौबीस घंटे के अंदर कांग्रेस ने इसे ओबीसी समुदाय को बांटने की कोशिश करार दिया.

ओबीसी आरक्षण पर नए आयोग को लेकर राजनीति तेज, कांग्रेस ने साधा सरकार पर निशाना

कांग्रेस नेता पीएल पुनिया ने कहा कि ये ओबीसी समुदाय को बांटने की एक राजनीतिक पहल है

नई दिल्ली:

ओबीसी की सेंट्रल लिस्ट में कैसी और कितनी श्रेणियां और हों इसे तय करने के लिए बने आयोग के साथ ही इस मसले पर राजनीति भी तेज हो गई है. सोमवार शाम को राष्ट्रपति ने इस पर आयोग के गठन के प्रस्ताव को मंजूरी दी और चौबीस घंटे के अंदर कांग्रेस ने इसे ओबीसी समुदाय को बांटने की कोशिश करार दिया. कांग्रेस नेता पीएल पुनिया ने एनडीटीवी से कहा कि सरकार ने राजनीतिक वजहों से ये फैसला किया है और ये ओबीसी समुदाय को बांटने की एक राजनीतिक पहल है. आयोग के गठन पर कैबिनेट ने इस दलील के साथ मुहर लगाई थी कि सरकार की मंशा आरक्षण का फायदा सारी ओबीसी जातियों को बराबर पहुंचाने की है. लेकिन ओबीसी समुदाय के नेता मानते हैं कि इससे पीछे कोशिश पिछड़े वर्ग राजनीति का नक्शा बदलने की भी है.

यह भी पढ़ें : क्रीमी लेयर की सीमा बढ़ाने से गरीब के बच्चों को कैसे मिलेगा लाभ : कांग्रेस

शरद यादव ने भी एनडीटीवी से कहा कि सरकार ऐसे फैसलों के ज़रिये समाज को बांटना चाहती है. सरकार ओबीसी आरक्षण में क्रीमी लेयर यानी मलाईदार तबके की सीमा छह लाख रुपये सालाना से बढ़ाकर 8 लाख रुपये कर चुकी है. खास बात ये है कि फैसला ऐसे वक्त पर लिया गया है जब साल के अंत में गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं.

यह भी पढ़ें : अमित शाह ने भाजपा सांसदों से कहा, 'ओबीसी विरोधी' कांग्रेस को करें बेनकाब

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ओबीसी आरक्षण का मामला हमेशा से ही भारतीय राजनीति में एक बेहद ही संवेदनशील मामला रहा है. इस फैसले के जरिये सरकार की कोशिश ओबीसी राजनीति के समीकरण को बदलने की है. ये एक बेहद अहम राजनीतिक फैसला है, जिसका असर देश में ओबीसी राजनीति की दिशा और दशा पर पड़ेगा.

VIDEO : ओबीसी आयोग के गठन पर राजनीति
आयोग को 12 हफ्ते में अपनी रिपोर्ट देनी होगी. साफ है कि सरकार की तैयारी अगले साल से इस प्रस्ताव को लागू करने की है.