यह ख़बर 20 नवंबर, 2012 को प्रकाशित हुई थी

चड्ढा बंधु हत्याकांड : फार्महाउस पर कब्जे के लिए गया था नामधारी

चड्ढा बंधु हत्याकांड : फार्महाउस पर कब्जे के लिए गया था नामधारी

खास बातें

  • दिल्ली पुलिस सूत्रों के मुताबिक, पोंटी के फामर्हाउस पर कब्जे के लिए नामधारी वहां गए थे। इस दौरान नामधारी के सुरक्षा गार्ड भी उनके साथ थे।
नई दिल्ली:

उत्तराखंड के अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सुखदेव सिंह नामधारी पोंटी के फार्महाउस पर कब्जे के लिए ही वहां गए थे। दिल्ली पुलिस सूत्रों के मुताबिक, पोंटी के फामर्हाउस पर कब्जे के लिए नामधारी वहां गए थे। इस दौरान नामधारी के सुरक्षा गार्ड भी उनके साथ थे। नामधारी पर उत्तराखंड में भी कई मामले चल रहे हैं, जिनमें कुछ में वह बरी भी हो चुके हैं।

पोंटी और हरदीप के बीच सिर्फ छतरपुर के फार्म हाउस को लेकर ही विवाद नहीं था। हरदीप बृजवासन का एक फार्महाउस भी बेचना चाहता था, जिसे लेकर दोनों के बीच विवाद था। उधर, परिवार भी इस हत्याकांड में किसी तीसरे के शामिल होने की बात
कर रहा है और पुलिस से इस दिशा में जांच चाहता है।

उधर, शनिवार को पोंटी चड्ढा की हत्या से पहले दक्षिणी दिल्ली में एक विवादित फार्महाउस में कथित तौर पर जाने और वहां पर लोगों के साथ मारपीट के आरोप में पोंटी चड्ढा के चार गार्डों को गिरफ्तार किया गया है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पुलिस ने बताया कि शनिवार की सुबह छत्तरपुर के फार्महाउस में घुसकर पोंटी के छोटे भाई हरदीप के लोगों के साथ मारपीट करने वालों में ये चार लोग शामिल थे।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, हमने उन्हें हिरासत में रखा है। इस मामले में नुकसान पहुंचाने, डकैती और अगवा किए जाने का मामला दर्ज किया गया है। बाद में फॉर्महाउस में गोलीबारी हुई जिसमें पोंटी और हरदीप की मौत हो गई। पोंटी के लोगों ने छत्तरपुर फॉर्महाउस में घुसकर हरदीप के लोगों की पिटाई की उनका मोबाइल छीन लिया और उनमें से कुछ को बाहर निकाल दिया। इस घटना से कुछ समय पहले से पोंटी और उसके भाई के बीच तनाव चल रहा था।