NDTV Khabar

मॉब लिंचिंग के शिकार तबरेज अंसारी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई सामने, इस वजह से हुई थी मौत

मारपीट की घटना के एक हफ्ते बाद अंसारी की पुलिस हिरासत में मौत हो गई थी. उनकी हत्या के मामले में 11 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट दो दिन पहले सरायकेला पुलिस को सौंपी गई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. बाइक चोरी के संदेह में भीड़ ने की थी पिटाई
  2. हत्या के मामले में 11 लोगों को किया गया गिरफ्तार
  3. तबरेज अंसारी की मौत ब्रेन हैमरेज के कारण हुई
रांची:

बाइक चोरी करने के संदेह में बेरहमी से पीटे गए तबरेज अंसारी की मौत ब्रेन हैमरेज के कारण हुई. उनकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है. पुलिस सूत्रों के अनुसार, डॉक्टरों द्वारा जमा कराई गई पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि अंसारी के सिर की हड्डी टूट गई थी जिससे ब्रेन हैमरेज हुआ और उनकी मौत हो गई. पिछले महीने बाइक चोरी में हाथ होने की आशंका के चलते लोगों के एक समूह ने अंसारी को पीटा और उनसे 'जय श्री राम' का नारा लगाने को कहा था.  घटनास्थल से उनके दो साथी भागने में कामयाब हो गए थे, जिन्हें पुलिस अभी तक खोज नहीं पाई है. 

कांग्रेस ने सोनिया गांधी से की पार्टी का अस्‍थायी अध्‍यक्ष बनने की अपील, तो मिली यह प्रतिक्रिया

मारपीट की घटना के एक हफ्ते बाद अंसारी की पुलिस हिरासत में मौत हो गई थी. उनकी हत्या के मामले में 11 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट दो दिन पहले सरायकेला पुलिस को सौंपी गई. पुलिस के एक सूत्र ने आईएएनएस से कहा, "जांच के दौरान यह पाया गया है कि तबरेज अंसारी को बचाने के लिए दो थानों के प्रभारी अधिकारी ने समय पर प्रतिक्रिया नहीं दी." सूत्र ने कहा, "स्थानीय ग्राम प्रधान ने पुलिस को घटना के बारे में देर रात 2 बजे सूचित किया, लेकिन वे 6 बजे घटनास्थल पर पहुंचे." 


RTI कार्यकर्ता की हत्या के मामले में BJP के पूर्व सांसद को उम्रकैद की सजा

सूत्र ने बताया, "जिन डॉक्टरों ने तबरेज का इलाज किया, उन्होंने ठीक से नहीं जांचा. एक्स-रे रिपोर्ट में उनकी सिर की हड्डी टूटी हुई पाई गई लेकिन ब्रेन हैमरेज के लिए उनका इलाज नहीं किया गया. उन्हें जेल भेज दिया गया." अंसारी की हत्या को लेकर झारखंड उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी है. अदालत ने पांच जुलाई को अंसारी की मॉब लिंचिंग के मामले में मुस्लिम समुदाय के सदस्यों द्वारा हिंसक विरोध प्रदर्शन पर भी एक रिपोर्ट मांगी है. उच्च न्यायालय ने पांच जुलाई के विरोध प्रदर्शन पर नाखुशी जाहिर की है, लेकिन पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज होने के बावजूद इस सिलसिले में अभी तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया है.

टिप्पणियां

इनपुट- IANS 

Video: गौरक्षा के नाम पर रस्सी से बांधकर 25 लोगों के साथ मारपीट, पहुंचाया थाने



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement