सड़क के गड्ढ़ों से निजात पाने के लिए बनी बीएमसी की मोबाइल ऐप से भी शिकायतें

सड़क के गड्ढ़ों से निजात पाने के लिए बनी बीएमसी की मोबाइल ऐप से भी शिकायतें

सांकेतिक तस्वीर

मुंबई:

मुंबई में पिछले हफ्ते सड़क के गड्ढ़ों से निजात पाने के लिए बीएमसी ने पोटहोल्स ट्रैकिंग ऍप्लिकेशन नाम का एक मोबाइल एप्लीकेशन बनाया। बीएमसी ने दावा किया की एप्लीकेशन की मदद से नागरिक किसी भी गड्ढ़े की शिकायत अपने फ़ोन के ज़रिए कर सकते हैं। बीएमसी उन गड्ढ़ों की मरम्मत करेगी।

शुक्रवार को ही बॉम्बे हाई कोर्ट ने बीएमसी और अन्य संस्थाओं को गड्ढ़ों की शिकायत दर्ज़ करने के लिए उप्युक्त माध्यम उपलब्ध न करवाने के लिए फटकारा। यह भी कहा कि वक़्त पर कार्यवाही न होने पर महाराष्ट्र के मुख्य सचिव और अन्य सम्बन्धित अफसरों को कोर्ट के आदेश की अवमानना का आरोपी माना जाएगा। और सभी संस्थाओं को 6 अगस्त तक का वक़्त दिया।

कोर्ट ने 20 मई को कहा था, गड्ढ़ा मुक्त सड़क हर नागरिक का अधिकार है। कोर्ट ने बीएमसी और अन्य संस्थाओं को मानसून के आगमन से पहले सभी गड्ढ़ों की मरम्मत करने का आदेश दिया था और 10 जुलाई तक इसकी रिपोर्ट देने का आदेश दिया था। कोर्ट ने सभी संस्थाओं को गड्ढ़ों की शिकायत दर्ज़ करवाने के लिए उपयुक्त माध्यम मुहैया करवाने को भी कहा। कमोबेश सभी संस्थाएं ऐसा करने में नाकाम रही थीं।

सड़क के गड्ढ़े हमेशा ही परेशानी का सबब रहे हैं। कोर्ट के आदेश को ध्यान में रखते हुए बीएमसी ने पॉटहोल ट्रैकिंग सिस्टम नाम का मोबाइल एप्लीकेशन बनाया। नागरिकों से एप्लीकेशन की मदद से गड्ढ़ों की शिकायत करने की अपील भी की।

एनडीटीवी द्वारा इस एप्लीकेशन की मदद से गड्ढ़ों की शिकायत दर्ज करवाने पर इस एप्लीकेशन की कमियां सामने आयीं। इस एप्लीकेशन पर शिकायत करने पर एक मैसेज तो आता है, शिकायत नंबर भी दिया जाता है, पर कितने वक़्त में गड्ढ़े की मरम्मत होगी यह नहीं बताया जाता। साथ ही एक सड़क के बस एक ही गड्ढ़े की शिकायत दर्ज़ की जा सकती है। एनडीटीवी की शिकायत के 5 दिन बाद भी गड्ढ़े नहीं भरे गए।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस साल गड्ढ़ों की मरम्मत के लिए बीएमसी ने करीब 35 करोड़ रुपयों का बजट तय किया है। अब तक करीब 2500 गड्ढ़ों की शिकायत बीएमसी वेबसाइट पर दर्ज़ हुई है और बीएमसी के मुताबिक 2000 गड्ढ़ों की मरम्मत की जा चुकी है।