JDU से निकाले जाने के बाद प्रशांत किशोर और पवन वर्मा ने किया Tweet, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को कहा 'धन्यवाद'

पार्टी से निकाले जाने के बाद प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने ट्वीट कर नीतीश कुमार पर निशाना साधा.

JDU से निकाले जाने के बाद प्रशांत किशोर और पवन वर्मा ने किया Tweet, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को कहा 'धन्यवाद'

JDU ने प्रशांत किशोर और पवन वर्मा को पार्टी से निकाला.

खास बातें

  • JDU से निकाले गए प्रशांत किशोर और पवन वर्मा
  • कई मुद्दों पर नीतीश कुमार और प्रशांत किशोर में थी तल्खी
  • पवन वर्मा ने BJP-JDU समझौते पर उठाए थे सवाल
नई दिल्ली:

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) से चल रही तल्खियों के बीच प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) को जनता दल यूनाइटेड (JDU) ने पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया. नागरिकता कानून (CAA) समेत कई मुद्दों पर प्रशांत किशोर सीएम नीतीश कुमार की आलोचना करते रहे हैं. एक दिन पहले जब नीतीश कुमार ने कहा कि अमित शाह के कहने पर उन्हें (प्रशांत किशोर) पार्टी में रखा था तो, इसे लेकर चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने उन्हें झूठा बता दिया था. प्रशांत किशोर के साथ-साथ जेडीयू ने पवन वर्मा को भी पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया. पवन वर्मा बीजेपी-जेडीयू के बीच हुए समझौते पर सवाल उठाए थे. इस बीच पार्टी से निकाले जाने के बाद प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर नीतीश कुमार को धन्यवाद कहा. प्रशांत किशोर ने निशाना साधते हुए ट्वीट किया, 'आपका धन्यवाद नीतीश कुमार. मेरी शुभकामना है कि बिहार के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर 'बरकरार' रहने के लिए आपको मेरी शुभकामनाएं.'


वहीं, पवन वर्मा ने भी ट्वीट कर खुद को पार्टी से मुक्त करने के लिए नीतीश कुमार का आभार जताते हुए तंज कसा.


पवन वर्मा ने ट्वीट किया, 'आपका और आपकी नीतियों का बचाव करने की मेरी लगातार बढ़ती स्थिति से मुझे मुक्त करने के लिए नीतीश कुमार जी धन्यवाद. मैं आपको किसी भी कीमत पर बिहार का मुख्यमंत्री बनने की आपकी महत्वाकांक्षा के लिए शुभकामना देता हूं.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बता दें कि एक दिन पहले जब नीतीश कुमार ने कहा कि अमित शाह के कहने पर उन्हें (प्रशांत किशोर) पार्टी में रखा था, इसे लेकर भी ट्वीट वार हुआ था. प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार को झूठा बताया था और कहा था कि, 'मुझे JDU में क्यों और कैसे लेकर आए इस बारे में झूठ बोल रहे हैं. अपने ही रंग में रंगने की बेहद खराब कोशिश कर करे हैं. लेकिन अगर आप सच बोल रहे हैं तो कौन यह भरोसा करेगा कि अभी भी आपमें इतनी हिम्मत है कि अमित शाह द्वारा भेजे गए आदमी की बात न सुनें?

VIDEO: नीतीश कुमार को झूठा कहने पर प्रशांत किशोर जेडीयू से किए गए बर्खास्त