NDTV Khabar

बाबा रामदेव ने कुंभ में साधुओं से ऐसी चीज दान में ले ली जिनसे है उनका पुराना नाता

प्रयागराज में महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर कुंभ परिसर में बाबा रामदेव ने चिलम छोड़ो आंदोलन की शुरुआत की

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बाबा रामदेव ने कुंभ में साधुओं से ऐसी चीज दान में ले ली जिनसे है उनका पुराना नाता

बाबा रामदेव ने प्रयागराज में कुंभ में साधुओं से उनकी चिलमें दान में लीं और नशामुक्त भारत अभियान शुरू किया.

खास बातें

  1. कहा - नशे से साधुओं का गौरव और महान संत परम्परा होती है बदनाम
  2. गौतम, कणादि, जैमिनि, पाणिनि, पतंजलि, राम, कृष्ण कोई चिलम नहीं पीता था
  3. निर्मोही अखाड़े के महंत राजेन्द्र दास महाराज ने सबसे पहले चिलम दान दी
नई दिल्ली:

महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर बाबा रामदेव (Baba Ramdev) को चिलम दान देकर साधुओं ने ‘नशामुक्त भारत'' का सपना पूरा करने की दिशा में ऐतिहासिक शुरुआत की

प्रयागराज (Prayagraj) में महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर कुंभ (Kumbh) परिसर में ‘‘चिलम छोड़ो आंदोलन'' की शुरुआत करते हुए बाबा रामदेव ने साधुओं की सर्वसमावेशी संगत में आह्नान करते हुए कहा कि नशा, चिलम आदि से साधुओं का गौरव और हमारी महान संत परम्परा बदनाम होती है.

बाबा रामदेव ने कहा कि जब हम कल्याण के लिए घर-परिवार और मोह-माया छोड़कर इस पावनी ऋषि परम्परा में आ गए तो क्या हम नशा, चिलम और तम्बाकू आदि नहीं छोड़ सकते?  इस पर सर्वप्रथम निर्मोही अखाड़े के महंत राजेन्द्र दास महाराज ने चिलम दान देकर इस अभियान की शुरुआत की और नशा मुक्ति के लिए संकल्प लिया. यह वही अखाड़ा है जो कुंभ में सबसे पहले शाही स्नान करता है.

यह भी पढ़ें : योगी आदित्यनाथ ने मंत्रियों संग कुंभ में लगाई डुबकी, तो शशि थरूर बोले- इस संगम में सब नंगे हैं


बाबा रामदेव के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने एनडीटीवी को बताया कि इस अवसर पर श्री पंच तेरा भाई त्यागी खालसा अखाड़ा (त्यागियों की जमात) के भगवत दास जी, तुलसीदास जी, लाल बाबा, मनोज दास की प्रेरणा से और बाबा रामदेव के आह्नान पर सैकड़ों साधु-सन्यासियों ने चिलम दान की और शपथ ली.

1eqvccjc

 

बाबा रामदेव महाराज ने इस संगत को संबोधित करते हुए कहा कि हम सब एक ईश्वर की संतान हैं. हम सब एक समान हैं, सब महान हैं. हमारा खून एक और हमारे पूर्वज एक हैं. कोई ऊंच-नीच नहीं और कोई भेदभाव नहीं. हमारे पूर्वज गौतम, कणादि, जैमिनि, पाणिनि, पतंजलि, राम, कृष्ण आदि कोई चिलम नहीं पीता था. हमने साधुओं का और संत परम्परा का गौरव बढ़ाया है. हम त्याग करते हैं, तप करते हैं, जन कल्याण करते हैं.

VIDEO : योगी के मंत्रिमंडल ने गंगा में लगाई डुबकी

टिप्पणियां

बाबा रामदेव ने कहा कि महात्माओं ने विदेशियों का शीर्षासन कराया है. संत परोपकारी होते हैं. हम रोजगार देते हैं. हमने दो लाख लोगों को रोजगार दिया है और धर्म-संस्कृति की रक्षा कर रहे हैं. उन्होंने आगे कहा कि मैं युवाओं का नशा छुड़वाता हूं तब लोग कहते हैं कि आप महात्माओं का नशा क्यों नहीं छुड़वाते हो. मैं इसका क्या उत्तर दूं? आप अपनी चिलम दान करो, नशा छोड़कर मानवता के लिए प्रेरणा बनो.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement