NDTV Khabar

राष्ट्रपति चुनाव : मीरा कुमार के बारे में 6 अनकही बातें

मीरा कुमार बड़े दलित नेता और भूतपूर्व रक्षा मंत्री जगजीवन राम की बेटी हैं. वो विदेश सेवा की अधिकारी भी रह चुकी हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राष्ट्रपति चुनाव : मीरा कुमार के बारे में 6 अनकही बातें

राष्ट्रपति चुनाव : मीरा कुमार के बारे में 6 खास बातें

नई दिल्ली:
टिप्पणियां
राष्‍ट्रपति चुनाव के आज नतीजे आ रहे हैं. रामनाथ कोविंद के सामने हैं मीरा कुमार. विपक्ष ने वरिष्‍ठ कांग्रेसी नेता एवं पूर्व लोकसभा अध्‍यक्ष मीरा कुमार को अपना साझा उम्‍मीदवार बनाया था. मीरा कुमार बड़े दलित नेता और भूतपूर्व रक्षा मंत्री जगजीवन राम की बेटी हैं. वो विदेश सेवा की अधिकारी भी रह चुकी हैं. 

  1. बिहार के सासाराम से जीतने वाली मीरा कुमार 15वीं लोकसभा की अध्यक्ष रह चुकी हैं. उन्हें देश की पहली महिला स्पीकर होने का गौरव हासिल है. उनका जन्म बिहार के भोजपुर जिले में हुआ है. 
  2. मीरा कॉन्वेन्ट एडुकेटेड हैं. उनकी शिक्षा देहरादून, जयपुर और दिल्ली में हुई है. उन्होंने दिल्ली के इंद्रप्रस्थ कॉलेज और मिरांडा हाउस से एमए और एलएलबी किया है. 1970 में उनका चयन भारतीय विदेश सेवा के लिए हुआ. इसके बाद उन्होंने कई देशों में अपनी सेवा दी है. 
  3. वह यूपीए-1 की मनमोहन सिंह सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री रह चुकी हैं. वो 8वीं, 11वीं, 12वीं, 14वीं और 15वीं लोकसभा की सदस्य रह चुकी हैं.
  4. मीरा कुमार ने कॉलेज की पढ़ाई दिल्ली के इंद्रप्रस्थ कॉलेज व मिरांडा हाउस से की. मीरा कुमार कानून में स्नातक और अंग्रेजी साहित्य में स्नातकोत्तर हैं. वर्ष 1970 में वह भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) के लिए चुनी गईं. इसके बाद स्पेन, ब्रिटेन और मॉरीशस में उच्चायुक्त रहीं लेकिन अफसरशाही उन्हें रास नहीं आई और उन्होंने राजनीति में कदम बढ़ाने का फैसला किया.
  5. उत्तर प्रदेश से अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत करने वाली मीरा कुमार ने 1985 में बिजनौर लोकसभा क्षेत्र में हुए उपचुनाव में मायावती और रामविलास पासवान को पराजित कर पहली बार संसद में कदम रखा. हालांकि इसके बाद हुए चुनाव में वह बिजनौर से हार गईं. इसके बाद उन्होंने अपना क्षेत्र बदला और 11वीं तथा 12वीं लोकसभा के चुनाव में वह दिल्ली के करोलबाग संसदीय क्षेत्र से विजयी होकर फिर संसद पहुंचीं. 
  6. इसके बाद मीरा कुमार अपने पिता की राजनीतिक विरासत संभालने सासाराम जा पहुंचीं. वह कांग्रेस महासचिव और कांग्रेस कार्यसमिति की सदस्य भी रह चुकी हैं. उनके पति मंजुल कुमार सर्वोच्च न्यायालय में वकील हैं.
यह भी पढ़ें
रामनाथ कोविंद का वकालत से सियासत तक का सफर - जानें 5 बातें

उल्लेखनीय है कि देश का अगला राष्ट्रपति कौन होगा? रामनाथ कोविंद या फिर मीरा कुमार, इसका फैसला आज शाम 5 बजे तक हो जाएगा. सुबह 11 बजे से राष्ट्रपति चुनाव के वोटों की गिनती शुरू हो जाएगी और करीब 5 बजे तक नतीजे आ जाएंगे. वोटों की गिनती संसद भवन में होगी, जिसमें सबसे पहले संसद भवन में पड़े वोटों को गिना जाएगा, उसके बाद राज्यों से आई मतपेटियों के वोट गिने जाएंगे. आंकड़ों के हिसाब से एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद की जीत तय मानी जा रही है. 25 जुलाई को नए राष्ट्रपति शपथ लेंगे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement