NDTV Khabar

राजनीति से हो गए रिटायर, वापसी कर सबसे कम उम्र में बने राष्‍ट्रपति

नीलम संजीव रेड्डी 1977-82 तक देश के राष्‍ट्रपति रहे. उनके नाम कई अन्‍य रिकॉर्ड भी रहे.

213 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
राजनीति से हो गए रिटायर, वापसी कर सबसे कम उम्र में बने राष्‍ट्रपति

नीलम संजीव रेड्डी देश के छठे राष्‍ट्रपति चुने गए. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. नीलम संजीव रेड्डी देश के छठे राष्‍ट्रपति बने
  2. 1977 में उनका निर्विरोध निर्वाचन हुआ
  3. 1975 में जेपी के आहवान पर फिर से सियासत में लौटे
राजनीति से रिटायर होने के बाद सियासत में वापसी आसान नहीं होती. लेकिन राजनीति की रपटीली राहों में एक राजनेता ऐसे भी रहे जिन्‍होंने सियासत में दूसरी कामयाबी पारी खेली और सबसे कम उम्र में राष्‍ट्रपति बनने का रिकॉर्ड भी बनाया. जी हां बात हो रही है नीलम संजीव रेड्डी (1913-1996) की. वह 1977-82 तक देश के राष्‍ट्रपति रहे. उनके नाम कई अन्‍य रिकॉर्ड भी रहे. मसलन वह राष्‍ट्रपति बनने से पहले आंध्र प्रदेश के पहले मुख्‍यमंत्री रहे. इसके अलावा लोकसभा स्‍पीकर भी रहे. वह जनता पार्टी की तरफ से राष्‍ट्रपति बनने वाले एकमात्र नेता हैं. देश के पहले राष्‍ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद थे.

छठे राष्‍ट्रपति
आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले में जन्‍मे नीलम संजीव रेड्डी ने कांग्रेस पार्टी से जुड़कर सियासी पारी शुरू की. 1946 में पहली बार मद्रास विधानसभा के सदस्‍य बने. आंध्र प्रदेश के पहले मुख्‍यमंत्री रहे. 1964 से 1967 के दौरान लाल बहादुर शास्‍त्री और इंदिरा गांधी के मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री रहे. 1967-69 के दौरान लोकसभा स्‍पीकर रहे. उसके बाद पॉलिटिक्‍स से दूर हो गए.

यह भी पढ़े :
राष्ट्रपति चुनाव 2017 Live: कौन बनेगा राष्ट्रपति, रामनाथ कोविंद या मीरा कुमार, वोटों की गिनती आज
रामनाथ कोविंद का वकालत से सियासत तक का सफर - जानें 5 बातें

मीरा कुमार के बारे में 6 अनकही बातें
मीरा कुमार जीतें या रामनाथ कोविंद, दलित राष्ट्रपति बनने से हूं खुश: मायावती
आखिर क्यों बिहार के सांसदों,विधायकों और लोगों को रहा है राष्ट्रपति चुनाव का बेसब्री से इंतजार!


संपूर्ण क्रांति
1975 में जब इंदिरा गांधी की सरकार के खिलाफ जयप्रकाश नारायण ने 'संपूर्ण क्रांति' का नारा दिया तो नीलम संजीव रेड्डी दोबारा सियासत में लौटे. 1977 में जनता पार्टी के टिकट पर संसद पहुंचे और निर्विरोध रूप से छठी लोकसभा के स्‍पीकर चुने गए. उसके तीन महीने बाद ही निर्विरोध रूप से राष्‍ट्रपति चुने गए. उल्‍लेखनीय है कि देश के पहले राष्‍ट्रपति बाबू राजेंद्र प्रसाद चुने गए.

वीडियो


 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement