NDTV Khabar

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वकीलों को बेजुबानों की आवाज बनने की सलाह दी

उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रणाली की जितनी जिम्मेदारी है उतनी ही जिम्मेदारी वकील समुदाय की भी है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वकीलों को बेजुबानों की आवाज बनने की सलाह दी

रामनाथ कोविंद (फाइल फोटो)

कटक: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को देश के वकीलों को बेजुबानों की आवाज बनकर वंचितों को इंसाफ दिलाने की सलाह दी. ओडिशा के कटक में नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी की स्थापना दिवस पर व्याख्यान देते हुए राष्ट्रपति ने कहा, 'अगर गरीबों की वैसी पहुंच नहीं बन पाई, जिस तरह अमीरों की है, तो यह हमारी जनतांत्रिक आचार-नीति का मजाक होगा. दुर्भाग्यवश, ऐसा हो रहा है'. उन्होंने कहा कि देश की विधिक प्रणाली खर्चीली होने के साथ-साथ विलंब से इंसाफ मिलने के लिए विख्यात है. कार्यवाही को लंबा खींचने के लिए वकील अक्सर स्थगन के औजार का सही गलत उपयोग करते हैं.

उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रणाली की जितनी जिम्मेदारी है उतनी ही जिम्मेदारी वकील समुदाय की भी है. 

यह भी पढ़ें : मां-बेटी ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर मांगी ‘इच्छा मृत्यु‘ की इजाजत

राष्ट्रपति ने कहा, 'अधिवक्ता अदालत का विधिक अधिकरी होता है. वह अपने मुव्वकिल के प्रति जिम्मेदार होता है. साथ ही, न्याय प्रदान करने में वह अदालत की मदद करता है.'

टिप्पणियां
VIDEO : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बोले, सरकार कमजोर वर्गों के लिए समर्पितधी​

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement