NDTV Khabar

संसद में बोले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, 'तीन तलाक और हलाला को हटाना है'; पढ़ें संबोधन की 10 खास बातें

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को संसद भवन के केंद्रीय कक्ष में दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में अपना अभिभाषण दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
संसद में बोले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, 'तीन तलाक और हलाला को हटाना है'; पढ़ें संबोधन की 10 खास बातें

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

नई दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को संसद भवन के केंद्रीय कक्ष में दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में अपना अभिभाषण दिया. अपने अभिभाषण में राष्ट्रपति कोविंद ने लोकसभा चुनाव के सफल आयोजन के लिए चुनाव आयोग, सुरक्षाकर्मियो को बधाई दी. सेंट्रल हॉल में उन्होंने सांसदों को संबोधित करते हुए लोकसभा चुनाव में महिलाओं द्वारा मतदान करने की बढ़ती संख्या पर खुशी जाहिर की. इसके अलावा पहली बार देश में सर्वाधिक महिला सांसद चुनकर संसद तक पहुंचने के लिए भी बधाई दी. साथ ही राष्ट्रपति ने देश के विभिन्न मुद्दों पर भी बात की.
संबोधन के दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की 10 खास बातें-
  1. संसद को संबोधित करते हुए खुशी हो रही है. सभी निर्वाचित लोगों को बधाई. मतदाताओं ने दुनिया में भारत के लोकतंत्र की साख बढ़ाई. महिलाओं ने ज्यादा से ज्यादा मतदान किया. इस चुनाव की सफलता के लिए सभी मतदाता बधाई के पात्र है. चुनाव आयोग की पूरी टीम को बधाई क्योंकि उन्होंने इतने बड़े स्तर पर काम किया. सुरक्षाबलों का योगदान सराहनीय रहा.
  2. लोकसभा चुनाव के लिए 61 करोड़ से अधिक लोगों ने मतदान कर रिकॉर्ड बनाया, पहले की तुलना में महिलाओं की मतदान में सर्वाधिक हिस्सेदारी रही. देश ने तीन दशकों के बाद पूर्ण बहुमत की सरकार दी. दूसरी बार और भी मजबूत समर्थन दिया. ये विकास यात्रा को आगे बढ़ाने का जनादेश है. 
  3. नया भारत रवींद्रनाथ टैगोर के आदर्श भारत के उस स्वरूप की ओर आगे बढ़ेगा, जहां लोगों का चित्त भयमुक्त हो और आत्मसम्मान से उनका मस्तक ऊंचा रहे.
  4. 2014 से पहले निराशा का माहौल था. आपके अनुभव से सब समृद्ध होगा. देश के प्रत्येक व्यक्ति को समृद्ध करना हमारी सरकार का लक्ष्य. यह विश्वास 'सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास' पर आधारित है. सरकार के प्रति जनविश्वास बढ़ा है.
  5. देश में हर बहन-बेटी के लिए समान अधिकार सुनिश्चित करने हेतु ‘तीन तलाक' और ‘निकाह-हलाला' जैसी कुप्रथाओं का उन्मूलन जरूरी है.
  6. किसान और छोटे व्यापारियों को सम्मानपूर्ण जीवन मिले, इसके लिए सरकार ने उनके लिए पेंशन योजना शुरू की है. कृषि क्षेत्र में संरचनात्मक सुधारों के लिये उच्च अधिकार प्राप्त समिति गठित करने का निर्णय किया गया है, उत्पादकता बढ़ाने के लिये 25 लाख करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा.
  7. जल संरक्षण के लिए आने वाले समय में काम करेंगे. यह संकट गहराएगा. हमें अपने बच्चों के लिए और आने वाली पीढ़ी के लिए जल बचाना होगा, इसलिए इस बार जल से जुड़ा मंत्रालय बनाया गया.
  8. नया भारत हमारी सरकार का संकल्प है. किसानों के लिए पेंशन योजना, हर किसान को किसान सम्मान निधि, वीर जवानों को मिलने वाली स्कॉलरशिप की राशि बढ़ाई गई. राज्य पुलिस के जवानों के बेटे और बेटियों को भी इसमें शामिल किया गया.
  9. समाज के अंतिम व्यक्ति का विकास हो, ऐसा हमारा लक्ष्य है. नए भारत के पथ पर ग्रामीण भारत मजबूत होगा. युवा भारत के सारे सपने पूरे होंगे. शक्तिशाली भारत के सभी संसाधन जुटाए जाएंगे.
  10. महिला सशक्तिकरण सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है और इस संबंध में राज्यों के सहयोग से कई कदम उठाए गए हैं. देश के 112 ‘आकांक्षी' जिलों (पिछड़े जिलों) के विकास के लिए व्यापक स्तर पर कार्य हो रहा है. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
टिप्पणियां

Advertisement