NDTV Khabar

महाराष्ट्र में दूध की कीमत 25 रुपये प्रति लीटर घोषित, उत्पादकों ने आंदोलन वापस लिया

आंदोलन का नेतृत्व कर रहे स्वाभिमानी शेतकरी संघटना के नेता और सांसद राजू शेट्टी ने हड़ताल समाप्त करने की घोषणा की

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महाराष्ट्र में दूध की कीमत 25 रुपये प्रति लीटर घोषित, उत्पादकों ने आंदोलन वापस लिया

महाराष्ट्र में दूध उत्पादकों ने सोमवार से चल रहा आंदोलन समाप्त कर दिया.

खास बातें

  1. राजू शेट्टी ने सीएम देवेंद्र फड़णवीस से उनके आवास पर मुलाकात की
  2. 21 जुलाई से दूध आपूर्तिकर्ताओं को प्रति लीटर 25 रुपये देने की घोषणा
  3. 5 रुपये सब्सिडी देने की मांग को लेकर दुग्ध उत्पादक आंदोलन कर रहे थे
नई दिल्ली: महाराष्ट्र में दूध उत्पादकों का आंदोलन समाप्त हो गया है. राज्य सरकार की ओर से दूध के लिए 25 रुपये प्रति लीटर कीमत की घोषणा के बाद दूध उत्पादकों ने अपनी चार दिवसीय हड़ताल रोक दी. 

इस आंदोलन का नेतृत्व कर रहे स्वाभिमानी शेतकरी संघटना के नेता राजू शेट्टी ने गुरुवार को रात में इसकी घोषणा की. सांसद शेट्टी ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस से उनके आवास पर मुलाकात के बाद यह बयान दिया. डेयरी किसानों के संगठनों ने दूध की खरीद कीमत बढ़ाने की मांग की थी जिसके बाद सरकार ने 21 जुलाई से दूध आपूर्तिकर्ताओं को प्रति लीटर 25 रुपये देने की घोषणा की. 

इससे पहले मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने बुधवार को राज्य विधानसभा में ऐलान किया था कि इस हड़ताल के दौरान दुग्ध उत्पादकों के खिलाफ दर्ज मामले वापस लिए जाएंगे. फड़णवीस ने हालांकि स्पष्ट किया था कि ऐसे लोगों पर दर्ज मामले वापस नहीं लिए जाएंगे जो दुग्ध उत्पादक तो नहीं हैं लेकिन उन पर हड़ताल के दौरान हिंसा में संलिप्त होने के आरोप हैं. नेता प्रतिपक्ष राधाकृष्ण विखे - पाटिल के इस मुद्दे पर दिए गए बयान के जवाब में फडणवीस ने यह घोषणा की थी.

टिप्पणियां
VIDEO : दूध के दाम बढ़ाने के लिए आंदोलन

महाराष्ट्र में दूध पर 5 रुपये सब्सिडी देने की मांग को लेकर दुग्ध उत्पादक किसान सोमवार से आंदोलन कर रहे थे. स्वाभिमानी शेतकरी संगठन के कार्यकर्ताओं ने बुधवार से आंदोलन और तेज कर दिया था. किसान नेता और सांसद राजू शेट्टी गुजरात से आने वाली दूध की गाड़ियों को रोकने के लिए मुम्बई-अहमदाबाद हाईवे के दापचेरी नाके पर खुद ही डेरा डाले रहे. कोल्हापुर के जयसिंह तहसील के शिरोल गांव में स्वाभिमानी शेतकरी संगठन के कार्यकर्ताओं ने दूध के टैंकर में आग लगा दी थी. कई स्थानों पर दूध बहाया गया और दूध ढोने वाले टैंकरों को नुकसान पहुंचाया गया.
(इनपुट एजेंसियों से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement