NDTV Khabar

18 बच्चों को इस साल के राष्ट्रीय बहादुरी पुरस्कार से सम्मानित करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 24 जनवरी को एक विशेष समारोह में समाज के भविष्य के इन लीर्डस को सम्मानित करेंगे.

6 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
18 बच्चों को इस साल के राष्ट्रीय बहादुरी पुरस्कार से सम्मानित करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

18 बच्चों को इस साल के राष्ट्रीय बहादुरी पुरस्कार के लिए चुना गया है

खास बातें

  1. 18 बच्चों को इस साल के राष्ट्रीय बहादुरी पुरस्कार के लिए चुना गया है.
  2. तीन बच्चों को ये पुरस्कार मरणोपरांत दिया जा रहा है.
  3. राजपथ पर होने वाली 26 जनवरी की परेड में ये बच्चें हिस्सा लेंगे.
नई दिल्ली: 18 बच्चों को इस साल के राष्ट्रीय बहादुरी पुरस्कार के लिए चुना गया है. तीन बच्चों को ये पुरस्कार मरणोपरांत दिया जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 24 जनवरी को एक विशेष समारोह में समाज के भविष्य के इन लीर्डस को सम्मानित करेंगे. राजपथ पर होने वाली 26 जनवरी की परेड में ये बच्चें हिस्सा लेंगे. धमकियों की परवाह ना करते हुए आगरा जिले के मंटोला इलाके में सट्टे  और जुए के अवैध व्यवसाय के खिलाफ आवाज उठाने वाली नाजिया को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कारों के सर्वोच्च सम्मान भारत पुरस्कार से नवाजा जाएगा. 

वहीं प्रतिष्ठित गीता चोपड़ा पुरस्कार कनार्टक की रहने वाली 14 साल की नेत्रावती एम चाव्हान को मरणोपरांत दिया जाएगा. उन्होंने दो डूबते हुए बच्चों को बचाते हुए अपनी जान की कुर्बानी दे दी थी.     

यह भी पढ़ें : बहादुरी पुरस्कार में जम्मू-कश्मीर अव्वल, बड़ी तादाद में छोटे पुलिस अफसर पुरस्कृत

संजय चोपड़ा पुरस्कार साढ़े सत्रह साल के मास्टर करनबीर सिंह को दिया जाएगा. 20 सिंतबर 2016 को कुछ बच्चे अपनी स्कूल की बस में वापिस लौट रहे थे चालक तीव्र गति से गाड़ी चला रहा था, अटारी गांव के पास एक पुल को पार करते समय बस दीवार से टकराकर नाले में जा गिरी, कुछ ही देर में बस पानी से भर गई जिसके कारण सभी बच्चें घबरा गए और उन्हें सांस लेने में दिकत होने लगी तब पंजाब के करनबीर सिंह ने बस का दरवाजा तोड़ा और 15 बच्चों को बचाया.  

मेघालय के 14 साल के मास्टर बेटसवजॉन पेनलांग, ओडिसा की साढ़े सात साल की ममता दलाई और केरल के साढ़े 13 साल के मास्टर सेबेस्टियन को बापू गैधानी पुरस्कार दिया जाएगा. बेटसवजॉन ने बहादुरी दिखाते हुए अपने भाई को जिंदा जलने से बचाया वही ममता ने अपने एक दोस्त को मगरमच्छ के जबड़े से बाहर निकाला तो सेबेस्टियन ने अपने एक दोस्त को रेल की चपेट में आने से बचाया.   

टिप्पणियां
VIDEO : इस साल 25 बच्चों को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार​


 पुरस्कार का चयन एक उच्चस्तरीय समिति ने किया है, जिसमें विभिन्न मंत्रालय, विभागों के साथ एनजीओ और भारतीय बाल कल्याण विभाग के अधिकारी भी शामिल थे. गणतंत्र दिवस के पहले 24 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन्हें सम्मानित करेंगे और इसके बाद ये गणतंत्र दिवस परेड में हिस्सा लेंगे. पहली बार 1957 में दो बच्चों को बहादुरी के लिए ये पुरस्कार दिए गए थे. उसके बाद से हर साल ये राष्ट्रीय पुरस्कार बच्चों को दिया जाता है. अब तक 963 बच्चों को ये पुरस्कार दिया जा चुका है, जिसमें 680 लड़के और 283 लड़कियां शामिल हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement