NDTV Khabar

इलेक्टोरल बॉन्ड के मुद्दे पर प्रियंका गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- क्या सरकार ने झूठ बोला?

कांग्रस महासचिव प्रियंका गांधी ने इलेक्टोरल बॉन्ड के मुद्दे पर बीजेपी पर निशाना साधा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इलेक्टोरल बॉन्ड के मुद्दे पर प्रियंका गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- क्या सरकार ने झूठ बोला?

प्रियंका गांधी

खास बातें

  1. इलेक्टोरल बॉन्ड के मुद्दे पर प्रियंका गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना
  2. कहा- चंदा देने वाले की पहचान गोपनीय है- क्या सरकार ने ये झूठ बोला?
  3. कहा- पीएम ने गैरकानूनी तरीके से बॉन्ड की बिक्री की अनुमति दी?
नई दिल्ली:

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने इलेक्टोरल बॉन्ड के मुद्दे पर बीजेपी (BJP) पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा, 'इलेक्टोरल बॉन्ड के जरिए चंदा लेने के मामले में एक रिपोर्ट ने 4 खुलासे किए हैं. कल भाजपा सरकार के मंत्री ने एक रटा रटाया कागज प्रेस के सामने पढ़ दिया! लेकिन इन प्रश्नों के जवाब कहां हैं?' प्रियंका ने सवाल किया, 'क्या यह सच है कि RBI और चुनाव आयोग की आपत्तियों को नकारा गया?'. उन्होंने पूछा, 'रिपोर्ट में लिखा है कि प्रधानमंत्री जी ने कर्नाटक चुनाव के दौरान गैरकानूनी तरीके से बॉन्ड की बिक्री की अनुमति दी? क्या यह सच है?' प्रियंका ने तीसरा सवाल पूछा, 'चंदा देने वाले की पहचान गोपनीय है- क्या सरकार ने ये झूठ बोला?'

चुनावी बॉन्ड राजनीति में ईमानदार धन लाने का ‘सफल प्रयास': पीयूष गोयल


बता दें कि इससे पहले भी प्रियंका इस मुद्दे पर बीजेपी को घेर चुकी हैं. कांग्रेस ने मीडिया में चुनावी बॉन्ड से जुड़ी एक खबर का हवाला देते हुए सोमवार को आरोप लगाया था कि भारतीय रिजर्व बैंक की आपत्तियों को दरकिनार करते हुए चुनावी बॉन्ड लाया गया ताकि कालाधन भाजपा के खजाने में पहुंच सके. 

टिप्पणियां

प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार पर बोला हमला, कहा- चुनावी बॉन्ड लाया गया ताकि भाजपा के खजाने में...

पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर आरोप लगाया था, "आरबीआई को दरकिनार कर और राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी चिंताओं को खारिज करते हुए चुनावी बॉन्ड को मंजूरी दी गई ताकि भाजपा के पास कालाधन पहुंच सके." प्रियंका ने कहा, "ऐसा लगता है कि भाजपा को कालाधन खत्म करने के नाम पर चुना गया था, लेकिन यह उसी से अपना खजाना भरने में लग गई. यह भारत की जनता के साथ शर्मनाक विश्वासघात है." उन्होंने जिस मीडिया खबर का हवाला दिया उसमें दावा किया गया है कि चुनावी बॉन्ड की व्यवस्था की आधिकारिक घोषणा से पहले रिजर्व बैंक ने इस कदम का विरोध किया था.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement