NDTV Khabar

प्रियंका गांधी का निशाना, मोदी सरकार ने अपनी नाकामी की वजह से अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया

जीडीपी के ताजा आंकड़ों को लेकर कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है. प्रियंका गांधी ने कहा कि सरकार ने अपनी नाकामी के चलते अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
प्रियंका गांधी का निशाना, मोदी सरकार ने अपनी नाकामी की वजह से अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया

प्रियंका गांधी वाड्रा (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. प्रियंका गांधी ने भाजपा सरकार पर साधा निशाना
  2. कहा, नाकामी की वजह से अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया
  3. आज GDP ग्रोथ 4.5% आई है, जो दिखाता है सारे वादे झूठे हैं
नई दिल्ली :

जीडीपी के ताजा आंकड़ों को लेकर कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है. प्रियंका गांधी ने कहा कि सरकार ने अपनी नाकामी के चलते अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया. उन्होंने ट्वीट किया, ''वादा तेरा वादा...2 करोड़ रोजगार हर साल, फसल का दोगुना दाम, अच्छे दिन आएंगे, मेक इन इंडिया होगा, अर्थव्यवस्था पांच हजार अरब डॉलर की होगी. क्या किसी वादे पर हिसाब मिलेगा?'' प्रियंका ने दावा किया, ''आज जीडीपी विकास दर 4.5 फीसदी हो गयी है. जो दिखाता है सारे वादे झूठे हैं. तरक्की की चाह रखने वाले भारत और उसकी अर्थव्यवस्था को भाजपा सरकार ने अपनी नाकामी के चलते बर्बाद कर दिया है". आपको बता दें कि भारत की अर्थव्यवस्था में जुलाई से सितंबर के बीच बीते 6 सालों में सबसे धीमे स्तर पर बढोतरी हुई.  

इस दौरान देश की जीडीपी केवल 4.5 फीसदी रही जोकि पिछली तिमाही के जीडीपी (5 फीसदी) से भी कम है. 2018 में जुलाई-सितंबर के बीच जीडीपी 7 फीसदी थी. इससे पहले सबसे कम जीडीपी 2013 में जनवरी-मार्च में दर्ज की गई थी. इस दौरान जीडीपी 4.3 फीसदी थी. राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) द्वारा शुक्रवार को जारी जीडीपी आंकड़ों के अनुसार चालू वित्त वर्ष 2019-20 की जुलाई-सितंबर के दौरान स्थिर मूल्य (2011-12) पर जीडीपी 35.99 लाख करोड़ रुपये रहा जो पिछले साल इसी अवधि में 34.43 लाख करोड़ रुपये था. इस प्रकार, दूसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर 4.5 प्रतिशत रही. 


टिप्पणियां

भारतीय इकोनॉमी बीते 6 सालों में सबसे बुरी हालत में, जुलाई-सितंबर में GDP गिरकर 4.5 फीसदी हुई

आलोच्य तिमाही में कृषि, वानिकी और मत्स्यन पालन क्षेत्र में 2.1 प्रतिशत और खनन और उत्खनन में 0.1 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गयी. वहीं विनिर्माण क्षेत्र में इस दौरान 1 प्रतिशत की गिरावट रही. इन तीनों समूह के खराब प्रदर्शन के कारण आर्थिक वृद्धि दर कमजोर रही. इसके अलावा बिजली, गैस, जल आपूर्ति और अन्य उपयोगकी सेवाओं के क्षेत्र में चालू वित्त वर्ष जुलाई-सितंबर तिमाही में 3.6 प्रतिशत और निर्माण क्षेत्र में 3.3 प्रतिशत वृद्धि रहने का अनुमान लगाया गया है. आलोच्य तिमाही में सकल मूल्य वर्द्धन (जीवीए) 4.3 प्रतिशत रहा. जबकि एक साल पहले 2018-19 की इसी तिमाही में यह 6.9 प्रतिशत थी.
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement