NDTV Khabar

सोनभद्र: प्रियंका गांधी आज उम्भा गांव में हत्याकांड के शिकार हुए आदिवासियों के परिवारों से मिलेंगी

Sonbhadra Massacre: प्रियंका ने पहले भी उम्भा जाने के की कोशिश की थी जहां गोण्ड समुदाय के 10 लोगों की नृशंस हत्या कर दी गयी थी लेकिन प्रशासन ने उन्हें वहां जाने से रोक दिया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सोनभद्र: प्रियंका गांधी आज उम्भा गांव में हत्याकांड के शिकार हुए आदिवासियों के परिवारों से मिलेंगी

Sonbhadra News Today: पहले प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) को उम्भा गांव जाने से रोक दिया गया था

खास बातें

  1. उम्भा गांव में 10 लोगों की हत्या
  2. जमीन पर कब्जे को लेकर था विवाद
  3. प्रियंका को जाने से पहले रोक दिया गया था
नई दिल्ली:

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी उम्भा गांव का दौरा कर पिछले महीने नरसंहार में मारे गए आदिवासियों के परिवार वालों से मुलाकात करेंगी. प्रियंका गांधी आज उम्भा पहुंचेंगी. सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि प्रियंका के दौरे और उनकी सुरक्षा को लेकर प्रशासन तैयारियां कर रहा है. सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस महासचिव पीड़ित परिवारों से मिलने के अलावा उम्भा में हो रहे विकास कार्यों के बारे में आदिवासी समुदाय के लोगों से बातचीत करेंगी. वह घटना के बाद राज्य सरकार की ओर से आदिवासियों की सुरक्षा के लिए किए गए इंतजामों के बारे में भी जानकारी हासिल करेंगी.  प्रियंका ने पहले भी उम्भा जाने के की कोशिश की थी जहां गोण्ड समुदाय के 10 लोगों की नृशंस हत्या कर दी गयी थी लेकिन प्रशासन ने उन्हें वहां जाने से रोक दिया था.

CWC की बैठक के बीच कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं ने की प्रियंका को पार्टी अध्यक्ष बनाने की मांग की


प्रशासन ने उन्हें उम्भा जाते समय रास्ते में मिर्जापुर में ही हिरासत में ले लिया था. उन्हें चुनार के किले में रात भर रखा गया. अगली सुबह आदिवासी समुदाय के लोगों ने प्रियंका से चुनार के किले में ही मुलाकात की. इस बीच, भाजपा ने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में सोनभद्र में हुई जमीन की धांधलियों के लिए प्रियंका को माफी मांगनी चाहिए. प्रियंका को अगर जनता की समस्याओें से ईमानदारी से सरोकार होता तो वह कांग्रेस सरकार के दौरान हुई जमीनों की धांधलियों पर पश्चाताप करतीं.

नए कांग्रेस अध्यक्ष कहां से लाएंगे वो 'आस्था और समर्पण'
 
बीजेपी प्रवक्ता चंद्रमोहन ने कहा कि प्रियंका का सोनभद्र दौरा कांग्रेस की ओछी राजनीति का एक उदाहरण है. उन्होंने कहा कि सोनभद्र में जमीनों का विवाद वर्ष 1955 से शुरू हुआ, जब कांग्रेस सरकार के दौरान ग्राम समाज की जमीन को एक निजी सोसायटी को पट्टा कर दिया गया था. कांग्रेस सरकार के दौरान सोनभद्र ही नहीं, प्रदेश के कई इलाकों में जमीनों की संस्थागत लूट हुई है. इस मुद्दे से जनता का ध्यान बंटाने के लिए ही प्रियंका सोनभद्र में उम्भा गांव में हुई दुखद घटना के पीड़ितों से मिलने का नाटक कर रही हैं. प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस केवल लूट की राजनीति ही करना जानती है. कांग्रेस की इस लूट में सपा और बसपा भी बराबर के भागीदार हैं.

खबरों की खबर: यूपी में योगीराज है या जंगलराज?​

टिप्पणियां



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement