NDTV Khabar

कांची कामकोटि पीठ प्रमुख जयेंद्र सरस्वती को वृंदावन एनेक्सी में दी गई महासमाधि

देशभर के वैदिक पंडित इस मौक़े पर पहुंचे और उनका पूजन किया.

1Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कांची कामकोटि पीठ प्रमुख जयेंद्र सरस्वती को वृंदावन एनेक्सी में दी गई महासमाधि

जयेंद्र सरस्वती के अंतिम संस्कार की प्रक्रिया का दृश्य.

कांचीपुरम (तमिलनाडु): जयेंद्र सरस्वती को धार्मिक संस्कार पूरी होने के बाद आज उन्हें कांचि के वृंदावन एनेक्सी में महासमाधि दी गई. बुधवार को 82 साल के जयेंद्र सरस्वती का निधन दिल का दौरा पड़ने से हो गया था. जिसके बाद उनका धार्मिक संस्कार किया गया. देशभर के वैदिक पंडित इस मौक़े पर पहुंचे और उनका पूजन किया.

बता दें कि कांची कामकोटि पीठ के शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती के अंतिम संस्कार की प्रक्रिया गुरुवार की सुबह शंकर मठ परिसर में उनके परिजन की मौजूदगी में शुरू हुई थी. जयेंद्र सरस्वती अपने दौर के सबसे प्रभावशाली आध्यात्मिक नेताओं में से एक थे. जयेंद्र सरस्वती का कल यहां निधन हो गया था.

पार्थिव देह को दफनाने की प्रकिया जिसे वृंदावन प्रवेशम कहा जाता है, अभिषेकम अथवा स्नान के साथ शुरू हुई. अभिषेकम के लिए दूध एवं शहद जैसे पदार्थों का इस्तेमाल किया गया.

अभिषेकम की प्रक्रिया श्री विजयेंद्र सरस्वती तथा परिजन की मौजूदगी में पंडितों के वैदिक मंत्रोच्चार के बीच मठ के मुख्य प्रांगण में हुई. मठ के एक अधिकारी ने कहा कि जयेंद्र सरस्वती का पार्थिव शरीर बाद में वृंदावन उपभवन ले जाया जाएगा. वहीं उनके पूर्ववर्ती श्री चंद्रशेखरेंद्र सरस्वती के अवशेष वर्ष 1993 में रखे गये थे.

टिप्पणियां
वृंदावन उपभवन में उनके पार्थिव शरीर को समाधि देने की प्रक्रिया पूर्वाह्न करीब 11 बजे सम्पन्न होने की उम्मीद है.  तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने उनके पार्थिव शरीर पर पुष्पांजलि अर्पित की और इस प्रक्रिया का हिस्सा बने.

कड़ी सुरक्षा के बीच सम्पन्न हो रहे अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने के लिये भारी संख्या में श्रद्धालु एवं अनुयायी मौजूद हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement