NDTV Khabar

रोज वैली चिट फंड के नाराज निवेशकों ने कंपनी के होटल में की तोड़ फोड़

कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आज बताया कि मिंटो पार्क इलाके में रोज वैली के स्वामित्व वाले एक होटल के सामने सैकड़ों निवेशक एकत्र हुए थे.

13 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
रोज वैली चिट फंड के नाराज निवेशकों ने कंपनी के होटल में की तोड़ फोड़

फाइल फोटो

खास बातें

  1. नाराज निवेशकों का प्रदर्शन
  2. ऑफिस में की तोड़फोड़
  3. 2 लोगों को लिया गया हिरासत में
नई दिल्ली:

रोज वैली चिट फंड के नाराज निवेशकों ने शहर में कंपनी के एक होटल में आज दोपहर तोड़ फोड़ की.  इस संबंध में दो लोगों को हिरासत में लिया गया है. कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आज बताया कि मिंटो पार्क इलाके में रोज वैली के स्वामित्व वाले एक होटल के सामने सैकड़ों निवेशक एकत्र हुए.  भुगतान के निपटान पर वार्ता के लिए होटल प्राधिकारियों ने उन्हें कथित रूप से आमंत्रित किया था.  लेकिन जब होटल प्राधिकारियों ने उनसे मिलने से इनकार कर दिया तो इस बात से गुस्से में आए निवेशकों ने होटल के जलपान कक्ष, स्वागत कक्ष में तोड़ फोड़ की और शीशे एवं फर्नीचर तोड़ दिया. उन्होंने बताया कि इस मामले में दो लोगों को हिरासत में लिया गया है.

यह भी पढ़ें :  ममता ने की 'चूहे' से पीएम मोदी की तुलना, कहा -"हम बाघों से लड़ते हैं, डरेंगे नहीं'


टिप्पणियां

आपको बता दें कि रोज वैली चिटफंड घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पिछले महीने 239 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की है. इस घोटाले में पश्चिम बंगाल और ओडिशा के हजारों लोगों के साथ कथित रूप से ठगी हुई थी. केन्द्रीय जांच एजेंसी के क्षेत्रीय कार्यालय ने धन शोधन निषेध कानून के तहत कुर्की के आदेश जारी किए हैं. गौरतलब है कि एजेंसी अभी तक 1,950 करोड़ रुपये बाजार कीमत की संपति कुर्क कर चुकी है. एजेंसी के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा, ताजा मामले में 293 करोड़ रुपये (बाजार) कीमत की संपति की कुर्की का आदेश है. 

Video : टीएमसी सांसद गिरफ्तार
टीएमसीऔर माकपा के कई नेता जांच के दायरे में
तृणमूल कांग्रेस और माकपा के कई शीर्ष नेता रोजवैली चिटफंड घोटाला मामले में सीबीआई जांच के दायरे में हैं. यह बात सीबीआई एक वरिष्ठ अधिकारी ने कही है. सीबीआई के एक अधिकारी ने कहा, "रोजवैली चिटफंड घोटाला मामले में तृणमूल कांग्रेस और माकपा दोनों के कुछ शीर्ष नेता हमारी जांच के दायरे हैं. जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ रही है. नए सुराग मिले हैं. हम सभी पहलुओं की जांच कर रहे हैं." हालांकि, सीबीआई सूत्रों ने किसी भी तृणमूल या माकपा नेता को फिलहाल तलब करने से इनकार किया. सीबीआई सूत्रों के अनुसार माकपा नेताओं के एक हिस्से पर सीबीआई की नजर है क्योंकि रोज वैली ने वाम मोर्चा सरकार के कार्यकाल के दौरान अपना ऑपरेशन शुरू किया था और उस अवधि के दौरान चिटफंड कंपनी ने बंगाल में अपने ऑपरेशन का विस्तार किया था. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement