यह ख़बर 10 दिसंबर, 2014 को प्रकाशित हुई थी

आगरा में धर्म परिवर्तन कराने के मामले को लेकर संसद में जोरदार हंगामा

नई दिल्ली:

आगरा में मुस्लिम समाज के 57 परिवारों के धर्म परिवर्तन के मामले ने राजनीतिक रंग अख्तियार कर लिया है। राज्यसभा में बीएसपी की नेता मायावती ने लालच के आधार पर लोगों को फुसलाने के आरोप लगाए। राज्यसभा में विपक्षी सांसदों ने इस मामले में प्रधानमंत्री के बयान की मांग करते हुए कहा कि सरकार इस मामले में दखल दे। वहीं सरकार ने कहा कि यह राज्य सरकार का मामला है।

गौरतलब है कि आगरा में सोमवार को घर वापसी के नाम पर करीब 57 मुस्लिम परिवारों का धर्म परिवर्तन कराया गया। इसके बाद अब अलीगढ़ में भी ऐसा ही एक और कार्यक्रम होने जा रहा है। आयोजकों ने बताया कि 25 दिसंबर से पहले अलीगढ़ में कई ईसाई परिवार स्वेच्छा से हिन्दू धर्म को अपनाएंगे। बताया जा रहा है कि इस कार्यक्रम में भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ के शामिल होंगे।

बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि यह गंभीर मामला है। इसमें लालच की बात सामने आ रही है। समाजवादी पार्टी की सरकार को इसे गंभीरता से लेना चाहिए। यह बीजेपी और उसके सहयोगी संगठनों का काम है। सांप्रदायिकता फैलाने की कोशिश है। यूपी के साथ देशभर में आग फैलाएंगे।

कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि यह कौन से दल ने किया ये बात आप भूल जाइये, प्रलोभन देकर धर्म परिवर्तन करना आपराधिक जुर्म है।

सीपीएम के नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि लोगों को गुमराह किया जा रहा है। आरएसएस का यह कहना है कि 90 साल बाद उनको सरकार मिली है। वे कहते हैं कि देश को हिन्दू राष्ट्र के रूप में बदलेंगे। सरकार को इस बारे में जवाब देना होगा।

वहीं एमआईएम नेता असदुद्दीन औवेसी का कहना है कि अब तक इस मामले में गिरफ्तारी क्यों नहीं की गई है। ये सिर्फ राज्य की कानून-व्यवस्था का मुद्दा नहीं है, केंद्र की भी जिम्मेदारी बनती है। बीजेपी ध्रुवीकरण करना चाहती है।

Newsbeep

वहीं इस मामले में बजरंग दल के एक कार्यकर्ता के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया गया है। बजरंग दल के कार्यकर्ता किशोर बाल्मीकि पर आरोप है कि उसने जबरन धर्म परिवर्तन कराया। यह शिकायत हिन्दू बनाए गए इस्माइल ने दर्ज कराई है। इस्माइल का आरोप है कि किशोर एक महीने से उन पर दबाव डाल रहा था। धर्म परिवर्तन करने वालों में से कुछ लोगों का यह भी कहना है कि उन्होंने दबाव और लालच में आकर ऐसा किया है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वहीं समाजवादी पार्टी का कहना है कि उनकी सरकार मामले को गंभीरता से ले रही है और इसकी जांच करेगी। आगरा से बीजेपी सांसद का कहना है कि लोगों ने स्वेच्छा से अपना धर्म बदला है। कोई दबाव नहीं था।