NDTV Khabar

पुलवामा हमला: CRPF जवान की जुबानी - 600 मीटर तक उड़कर चले गए थे जवानों के अंग, 1 KM तक फैला था मलबा

विस्फोट इतना तगड़ा था कि दो किलोमीटर दूर तक खिड़कियों के शीशे टूट गए. जवानों के शरीर के अंग और गाड़ी का मलबा एक किलोमीटर दूर तक फैला हुआ था.

573 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
पुलवामा हमला: CRPF जवान की जुबानी - 600 मीटर तक उड़कर चले गए थे जवानों के अंग, 1 KM तक फैला था मलबा

पुलवामा हमले की एक तस्वीर.

खास बातें

  1. CRPF काफिले पर किया गया था हमला
  2. 40 जवान हो गए थे शहीद
  3. कई जवान हो गए थे जख्मी
श्रीनगर:

Pulwama Terror Attack: जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ (CRPF)के जिस काफिले पर आतंकी हमला किया गया था, उसमें बचने वाले जवानों ने रूटीन बैठक में हिस्सा लिया. लेकिन वे अपने 40 साथियों के चले जाने के दुख से उभर नहीं पा रहे है. जवानों के शवों को इकट्ठा में करने में शामिल जसविंदर पाल ने हमले के पलों को याद करते हुए बताया, 'जवानों के शरीर के अंग 500 से 600 मीटर दूर तक उड़ कर चले गए थे.' उस मलबे में पाल के दोस्त मनिंदर सिंह भी थे, यह बात करते हुए उनके मुंह से बड़ी मुश्किल से शब्द बाहर निकल रहे थे. कांस्टेबल मनिंदर सिंह उसी बस में सवार थे, जिसे जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमलावर ने अपनी कार से टक्कर मारी थी. सिंह अन्य जवानों के साथ उस हमले में शहीद हो गए.

सीआरपीएफ की 78 गाड़ियों का काफिला तड़के जम्मू से चला था. लेकिन श्रीनगर से 30 किलोमीटर पहले विस्फोटक सामग्री से भरी कार काफिले में लाकर घुसा दी गई. विस्फोट इतना तगड़ा था कि दो किलोमीटर दूर तक खिड़कियों के शीशे टूट गए. जवानों के शरीर के अंग और गाड़ी का मलबा एक किलोमीटर दूर तक फैला हुआ था. पाल ने बताया, 'हम केवल दो गाड़ी पीछे ही थे.' पंजाब के रहने वाले जवान अपने दोस्त को याद करके रोने लगे और कहा, 'यह बहुत बड़ा विस्फोट था. मैं इसे नहीं भूल पाऊंगा.'


जम्मू-कश्मीर: पुलवामा में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में सेना के चार जवान शहीद

हमले में बचने वाले दूसरे जवान दानिश चंद कुछ दूरी पर बुलैटप्रूफ वाहन में सवार थे. उन्होंने याद करते हुए कहा बताया कि उन्हें यह पता नहीं लग पा रहा था कि हमलावर ने हमला कहां किया है. हमले की खबर के बाद उनके घरवाले परेशान थे. दानिश चंद ने बताया, 'चारों तरफ दहशत का माहौल था. घर पर परिजनों को हमले के बारे में पता चला, वे डर गए. मेरे एक भाई भी सीआरपीएफ में हैं. उन्होंने किसी भी तरह मुझसे बात की और परिवार वालों को बताया कि मैं सुरक्षित हूं.'

वायरलैस सेट पर तैनात असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर किशोर लाल ने कहा कि वह जख्मी जवानों की चीख सुन रहे थे. हमले के बाद पूरा काफिला वहां तीन घंटे तक अटका रहा, उसके बाद उसे श्रीनगर के लिए रवाना किया गया. 

पुलवामा आतंकी हमला: पूर्व RAW चीफ बोले- बिना सुरक्षा चूक के ऐसा अटैक नहीं हो सकता, किसी एक का काम नहीं

हमले के बाद पूरे देश में भारी आक्रोश देखने को मिल रहा है, वहीं इस हमले की जवाबी कार्रवाई की मांग भी की जा रही है. सरकार ने लोगों से हमले का बदला लेने का वादा किया है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. इसके साथ ही भारत सरकार ने पाकिस्तान को दिए 'एमएफएन' का दर्जा भी छीन लिया है. इसके साथ ही पाकिस्तान से आयात होने वाले सामान पर 200 फीसदी सीमा शुल्क लगाया गया है.

Pulwama Attack: वीवी वसंत कुमार ने पत्नी को भेजी थीं कोहरे की तस्वीरें, कहा- पहुंचने में थोड़ी देर और लगेगी, लेकिन...

टिप्पणियां

VIDEO- आतंकी हमले के चश्मदीद जवानों से खास बातचीत

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement