NDTV Khabar

पुलवामा आतंकी हमला: जवानों की जुबानी- CRPF काफिले पर कैसे हुआ अटैक

सीआरपीएफ के सूत्रों ने कहा कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के 78 वाहनों (इसमें 16 वाहनों को जोड़ा गया, जब यह दोपहर 2.15 बजे काजीगुंड पहुंचा) के काफिले को लगभग वीरान सड़क से भेजना असमान्य था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पुलवामा आतंकी हमला: जवानों की जुबानी- CRPF काफिले पर कैसे हुआ अटैक

प्रतीकात्मक तस्वीर.

श्रीनगर/नई दिल्ली:

Pulwama Terror Attack:वेलेंटाइन डे जवानों के बीच बहुत लोकप्रिय नहीं है, फिर भी श्रीनगर में ड्यूटी पर वापस लौट रहे सीआरपीएफ (CRPF)की 76वीं बटालियन के 2500 से ज्यादा जवानों के लिए जम्मू से 2.33 बजे तड़के बस लेना यादगार अनुभव था-जो कि कुछ ही घंटों बाद सबसे दुखद घटना में तब्दील हो गया. सीआरपीएफ के सूत्रों ने कहा कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के 78 वाहनों (इसमें 16 वाहनों को जोड़ा गया, जब यह दोपहर 2.15 बजे काजीगुंड पहुंचा) के काफिले को लगभग वीरान सड़क से भेजना असमान्य था. सुरक्षा के दृष्टिकोण से, यह एक आदर्श रणनीति होती क्योंकि पिछले कुछ दिनों से खराब मौसम की वजह से जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर यातायात नगण्य था. काफिला घटना से केवल एक घंटे दूर-काजीगुंड से करीब 60 किलोमीटर पर पुलवामा के लाथपोरा में था.

ऐसा प्रतीत होता है कि काफिले की सुरक्षा को करीब-करीब हरी झंडी दी गई थी. सीआरपीएफ की रोड ओपनिंग पार्टी (रोप) रोज सुबह आईईडी की उपस्थिति को जांचने के लिए राजमार्गो की जांच करती है. क्षेत्र में सेना की बहुलता है और राजमार्गो पर हमेशा तत्काल प्रतिक्रिया समूह मौजूद रहता है.


पुलवामा हमला: CRPF ने कहा- संकट में फंसे हर कश्मीरी के लिए है ‘मददगार', जारी किए टोल फ्री नंबर

काफिला जैसे ही श्रीनगर से 27 किलोमीटर पहले लेथपोरा पहुंचा, एक पीछा कर रही विस्फोटक से भरी कार ने काफिले के पांचवी बस को बांयी तरफ से टक्कर मार दी. विस्फोट में दूसरे बस को भी नुकसान पहुंचा. क्षेत्र में गोलीबारी की आवाज सुनी गई, लेकिन कोई नहीं जानता यह गोलीबारी किसने की. अब शहीद जवानों की संख्या 49 तक पहुंच गई है और कम से कम दर्जन से ज्यादा घायल हैं.

काफिले में मौजूद सीआरपीएफ के एक जवान ने कहा कि जबरदस्त धमाके ने सभी को चौंका दिया. वहां केवल अफरा-तफरी और भ्रम की स्थिति थी-मैं वहां केवल धुआं देख पा रहा था. उन्होंने कहा, "हमें हमारे वाहनों में वापस जाने के लिए कहा गया."

Pulwama Terror Attack: अब सभी पाकिस्तानी सामानों पर भारत सरकार ने लगाया 200 फीसदी सीमा शुल्क

सीआरपीएफ के एक अन्य जवान ने कहा, "हमें वाट्सअप संदेश के जरिए इस विस्फोट के बारे में जानकारी मिली. जैसे ही हम बस से नीचे उतरे, हमने अफरा-तफरी देखी-हमने हमारे साथियों के बुरी तरह से जले और कटे हुए अंग देखे और सुलगती हुई आग देखी."

विस्फोट के तुरंत बाद पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद ने हमले की जिम्मेदारी ली. उसने कहा कि दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के एक स्थानीय फिदायीन अदिल अहमद डार ने यह हमला किया. इसके साथ ही संगठन ने डार का एक वीडियो भी जारी किया.

क्रिकेट क्लब आफ इंडिया ने भी जताया पुलवामा हमले का विरोध, इमरान खान की फोटो को ढका

हमले की जांच कर रहे राष्ट्रीय जांच एजेंसी के सूत्रों ने कहा कि डार ने संभवत: 150 किलोग्राम अमोनियम नाइट्रेट (सुपर 90)-एक उर्वरक जिसका कम तीव्रता के धमाके के लिए प्रयोग किया जाता है, का प्रयोग किया. जांच अभी शुरुआती दौर में है, इसलिए एनआईए सूत्रों ने पुलवामा हमले में आरडीएक्स के प्रयोग या दो विस्फोटकों की संभावना से इनकार नहीं किया है.

Pulwama Terror Attack: गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने खुफिया एजेंसियों के साथ की बैठक, बनी यह रणनीति

टिप्पणियां

VIDEO- पुलवामा हमला: दुख और गुस्से में देश

 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement