NDTV Khabar

पुलवामा हमले का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, न्यायालय का दखल से इनकार

पुलवामा हमले का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की गई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पुलवामा हमले का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, न्यायालय का दखल से इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने मामले में दखल देने से इनकार कर दिया है.

नई दिल्ली :

पुलवामा हमले का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की गई है. याचिका में पुलवामा और उरी हमलों की सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज की अगुवाई में जांच आयोग के गठन की मांग की गई है. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने मामले में दखल देने से इनकार कर दिया है. कोर्ट हमलों की जांच या निगरानी नहीं करेगा. आपको बता दें कि याचिका में कहा गया है कि सेना, खुफिया विभाग और स्थानीय प्रशासन की मदद से उरी और पुलवामा की घटना के पीछे और पाकिस्तानी आंतकियों की मदद करने वाले भारतीय नागरिकों की भूमिका की जांच हो. याचिका में कहा गया है कि केंद्र सरकार कोर्ट में हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के नेताओं के खिलाफ की गई कार्रवाई के बारे में एक विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करे जो सक्रिय रूप से राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में शामिल हैं. हुर्रियत कॉन्फ्रेंस और उसके नेताओं से संबंधित सभी खातों को सीज किया जाए. हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के नेताओं को दी गई सुरक्षा  को तत्काल प्रभाव से वापस लें. हुर्रियत कॉन्फ्रेंस और अन्य राष्ट्र-विरोधी दलों को लोकसभा चुनाव और अन्य चुनाव लड़ने से प्रतिबंधित करें.

जम्मू-कश्मीर में तनाव के बीच प्रशासन ने पेट्रोल-डीजल की आपूर्ति सीमित करने का आदेश दिया


वकील विनीत ढांडा द्वारा दाखिल की गई याचिका में कहा गया है कि सोशल मीडिया पर देश के खिलाफ राष्ट्रविरोधी,  सशस्त्र बल -विरोधी, शहीदों के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी को अपराध घोषित किया जाए. पुलवामा हमले के शहीदों के परिवारों के लिए भेजे जा रहे धन के बारे में जानकारी दी जाए ताकि पैसा शहीदों के परिवारों तक ही पहुंचे. सुप्रीम कोर्ट से कहा गया है कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी ( NIA) को उन सभी  हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के नेताओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के आदेश दिए जाएं जिनके खिलाफ ठोस सबूत उपलब्ध हैं. जम्मू और कश्मीर राज्य में उन स्थानीय लोगों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश दिया जाए जो किसी भी रूप में सशस्त्र बलों पर हमला करते हैं.

पुलवामा आतंकी हमले पर ओवैसी की दो टूक: पाकिस्तान के PM अपने चेहरे से मासूमियत का नकाब उतारें

इसके अलावा उन सभी धार्मिक और राजनीतिक संगठनों पर प्रतिबंध लगाएं और उन सभी के खिलाफ कार्रवाई करें जो जम्मू और कश्मीर राज्य में भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल हैं. भारत और जम्मू-कश्मीर राज्य के स्थानीय युवाओं के साथ राज्य भर में विभिन्न कल्याणकारी और बातचीत कार्यक्रमों के माध्यम से सीधे संवाद में शामिल होने के लिए निर्देश दिए जाएं. पाकिस्तान के साथ सभी सांस्कृतिक संबंधों पर प्रतिबंध लगाने और उनके कलाकारों, अभिनेताओं, संगीतकारों और खिलाड़ियों को भारत में प्रवेश करने और प्रदर्शन करने से प्रतिबंधित करने की मांग की गई है. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने मामले से किनारा कर लिया है और दखल देने से इनकार कर दिया है. 

टिप्पणियां

हमारी लड़ाई कश्मीर के लिए है, कश्मीरियों के खिलाफ नहीं : पीएम नरेंद्र मोदी 

VIDEO: हमारी लड़ाई कश्मीर के लिए है, कश्मीरियों के खिलाफ नहीं : पीएम नरेंद्र मोदी



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement