Punjab Elections : कैप्‍टन और केजरीवाल के बीच फिर ट्विटर वार, अमरिंदर ने दिल्‍ली CM को दी चुनौती

Punjab Elections : कैप्‍टन और केजरीवाल के बीच फिर ट्विटर वार, अमरिंदर ने दिल्‍ली CM को दी चुनौती

प्रकाश सिंह बादल के खिलाफ आप प्रत्‍याशी घोषित होने के बाद दोनों नेताओं के बीच छिड़ी जंग

खास बातें

  • आप ने प्रकाश सिंह बादल के खिलाफ उतारा उम्‍मीदवार
  • उसके बाद अमरिंदर ने केजरीवाल पर साधा निशाना
  • दोनों नेताओं ने एक-दूसरे के खिलाफ किए ट्वीट

पिछले दो दिनों से पंजाब कांग्रेस प्रमुख कैप्‍टन अमरिंदर सिंह और दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बीच आगामी पंजाब चुनावों के मद्देनजर ट्विटर वार जारी है. दरअसल बुधवार को आम आदमी पार्टी (आप) ने दिल्‍ली के राजौरी गार्डन से विधायक जरनैल सिंह को पंजाब में मुख्‍यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के खिलाफ खड़े करने का ऐलान कर दिया. जरनैल लंबी विधानसभा सीट से प्रकाश सिंह बादल के खिलाफ लड़ेंगे. परंपरागत रूप से बादल वहीं से चुनाव लड़ते रहे हैं. हालांकि अभी प्रकाश सिंह बादल की पार्टी शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने उनकी उम्‍मीदवारी इस सीट से घोषित नहीं की है. लेकिन परंपरागत रूप से उनके इसी सीट से चुनाव लड़ने के कारण माना जा रहा है कि वह यहीं से चुनाव लड़ेंगे.


आप की इस घोषणा के बाद कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने बुधवार को ही ट्विटर पर मोर्चा खोलते हुए केजरीवाल पर आरोप लगाया कि आप द्वारा इस सीट से जरनैल सिंह को खड़ा करने का मतलब है कि आप ने बादल के साथ साठगांठ कर ली है. दरअसल अमरिंदर का मानना है कि जरनैल मुख्‍यमंत्री बादल के खिलाफ एक कमजोर उम्‍मीदवार हैं.
 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस पर आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने पंजाब कांग्रेस प्रमुख पर निशाना साधते हुए उनसे पूछा कि सर क्‍या आप पंजाब के मुख्‍यमंत्री प्रकाश सिंह बादल या उप मुख्‍यमंत्री सुखबीर बादल या सुखबीर के साले बिक्रम मजीठिया के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे या किसी ''सुरक्षित सीट'' से लड़ेंगे?  
 

केजरीवाल को चुनौती देते हुए कैप्‍टन अमरिंदर ने पलटवार करते हुए ट्वीट किया कि बादल परिवार की कहानी तो अब खत्‍म हो गई. आप बताइए कि आप चुनाव कहां से लड़ेंगे, मैं वहीं आकर आपके खिलाफ चुनाव लड़ूंगा.
  उसके बाद आज सुबह केजरीवाल ने उनको जवाब देते हुए ट्वीट किया कि सर आप मुझसे लड़ रहे हैं, बादल परिवार/ड्रग्‍स के खिलाफ नहीं. बादल परिवार भी कह रहा है कि वे मुझसे लड़ेंगे. इससे जाहिर होता है कि आप दोनों की इच्‍छा एक-दूसरे से लड़ने के बजाय मुझसे लड़ने की है.
  इसके जवाब में कैप्‍टन ने कहा कि मैंने अरुण जेटली-मजीठिया को उस वक्‍त हराया था जब आपको पंजाब के बारे में कुछ पता भी नहीं था. लेकिन यह तो बताइए कि आप मुझसे लड़ने में इतना डर क्‍यों रहे हैं?
इस पर केजरीवाल ने कहा कि मैं पंजाब चुनाव नहीं लड़ रहा हूं. इस लिहाज से आपकी चुनौतियां खोखली हैं. हम बादल/मजीठिया के खिलाफ लड़ रहे हैं, जिन्‍होंने पंजाब को ड्रग्‍स के चंगुल में धकेला है. और आप उनसे लड़ने के बजाय हमसे लड़ रहे हैं?
इस पर अमरिंदर ने जवाब देते हुए कहा कि हमें हमेशा से पता था कि पंजाब में आपकी यात्राएं महज ड्रामा है. अब आपने सच्‍चाई को स्‍वीकार (चुनाव नहीं लड़ने की बात) कर लिया है. इस लिहाज से पिछले कई महीनों से लगातार झूठ बोलने और झूठे वादे करने के लिए आपको माफी मांगनी चाहिए.
 
उल्‍लेखनीय है कि अक्‍टूबर में इन दोनों के बीच ट्विटर वार हुई थी. उस वक्‍त केजरीवाल ने कैप्‍टन अमरिंदर पर आरोप लगाते हुए कहा था कि वह अपने चुनाव अभियान में 'ड्रग्‍स के पैसे' का इस्‍तेमाल कर रहे हैं.