Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

संसद में बोले कृषि मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला, आत्महत्या करने वाले किसानों के परिजनों को मुआवजा देने का प्रावधान नहीं

कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने शुक्रवार को राज्यसभा में प्रश्नकाल में किसानों को ऋण जाल से मुक्त कराने के उपायों से जुड़े एक सवाल के जवाब में यह जानकारी दी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
संसद में बोले कृषि मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला, आत्महत्या करने वाले किसानों के परिजनों को मुआवजा देने का प्रावधान नहीं

आत्महत्या करने वाले किसानों के परिजनों को मुआवजा देने का प्रावधान नहीं : सरकार

नई दिल्ली:

सरकार ने देश में किसानों को सूदखोरों के कर्ज के जाल से मुक्त कराने के लिए बैंकिंग क्षेत्र की आर्थिक सहायता को बढ़ावा देने पर जोर देते हुये माना है कि आत्महत्या करने वाले किसानों के परिजनों को किसी भी प्रकार से मुआवजा देने का फिलहाल कोई प्रावधान नहीं है. कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने शुक्रवार को राज्यसभा में प्रश्नकाल में किसानों को ऋण जाल से मुक्त कराने के उपायों से जुड़े एक सवाल के जवाब में यह जानकारी दी. कर्ज के कारण आत्महत्या करने वाले किसानों के परिजनों को किसी योजना के तहत मुआवजा देने से जुड़े पूरक प्रश्न के जवाब में रूपाला ने कहा, 'सरकार की ओर से किसानों की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए कई कार्यक्रमों को अमल में लाये जा रहा हैं लेकिन आत्महत्या करने वाले किसानों को मुआवजा देने का प्रावधान वर्तमान में चलायी जा रही किसी नीति में नहीं है.' 

प्रियंका गांधी ने सरकार पर लगाया किसान आत्महत्या से जुड़ी रिपोर्ट के साथ छेड़छाड़ करने का आरोप


एक अन्य प्रश्न के उत्तर में रूपाला ने स्पष्ट किया कि किसानों को चार प्रतिशत ब्याज दर पर दिया जा रहा कर्ज सिर्फ कृषि कार्य के लिए है, इसमें कृषि कारोबार शामिल नहीं है. उन्होंने कहा कि किसानों को सूदखोरों के ऋणजाल से मुक्त कराने के लिये सरकार ने संस्थागत कर्ज के तहत सभी बैंकों को कृषि ऋण को सरल तरीके से जारी करने को बढ़ावा दिया गया है. 

महाराष्ट्र में बीजेपी की टी-शर्ट पहने किसान ने लगाई फांसी, शिवसेना ने सभी दलों से की ये अपील

टिप्पणियां

रूपाला ने बताया कि वित्तीय संस्थाओं से किसानों को पर्याप्त रियायती ऋण की उपलब्धता का लक्ष्य 2016-17 में नौ लाख करोड़ रुपये से बढ़ाकर 2019-20 में 13.50 लाख करोड़ रुपये कर दिया गया है. इस मद में इस साल 30 अगस्त तक 6.96 करोड़ रुपये जारी कर दिये गये हैं. 

Video: कर्जमाफी के बाद भी किसान कर रहे हैं खुदकुशी



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... Coronavirus: लॉकडाउन करने से पहले की तैयारी को लेकर हो रही आलोचना पर सरकार की तरफ से आया यह बयान

Advertisement