NDTV Khabar

रेसकोर्स रोड का नाम बदलकर हुआ लोक कल्‍याण मार्ग, इसी रोड पर है पीएम मोदी का आवास

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रेसकोर्स रोड का नाम बदलकर हुआ लोक कल्‍याण मार्ग, इसी रोड पर है पीएम मोदी का आवास

खास बातें

  1. केजरीवाल ने इसका नाम श्री गुरु गोबिंद सिंह मार्ग रखने का प्रस्ताव रखा
  2. पहले प्रस्ताव था कि रेस कोर्स रोड का नाम बदलकर एकात्म मार्ग किया जाए
  3. बीजेपी को दबाव में थोड़ा पीछे हटकर दूसरा नाम लाना पड़ा जो मंज़ूर हुआ
नई दिल्‍ली:

देश के प्रधानमंत्री का निवास का पता अब बदल गया है. अभी तक 7 रेस कोर्स रोड को पीएम निवास के नाम से जाना जाता था लेकिन अब ये '7 लोक कल्याण मार्ग' के नाम से जाना जाएगा. एनडीएमसी में सर्वसम्मति से ये फैसला लिया.

दरअसल हमारे पीएम रेस कोर्स रोड पर रहते हैं लेकिन बीजेपी सांसद और एनडीएमसी सदस्य मीनाक्षी लेखी ने पहले एनडीएमसी में इस सड़क का नाम 'एकात्म मार्ग' रखने का प्रस्ताव दिया था. लेकिन मीटिंग में आकर उन्होंने अपना प्रस्ताव बदला और लोक कल्याण मार्ग रखने का प्रस्ताव रखा. बैठक की अध्यक्षता कर रहे सीएम केजरीवाल ने इस सड़क का नाम श्री गुरु गोबिंद सिंह मार्ग रखने का प्रस्ताव रखा. बहुमत बीजेपी के पक्ष में था इसलिए सर्वसम्मति से इस सड़क का नाम लोक कल्याण मार्ग रखने का फैसला हुआ.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि 'मीनाक्षी जी ने प्रस्ताव रखा कि रेस कोर्स रोड का नाम लोक कल्याण मार्ग रखा जाए. मेरे पास भी सिख संगठन आये थे और उनका नाम गुरु गोबिंद सिंह जी के नाम पर रखा, ये मांग कर रहे थे क्योंकि ये उनका 350वां प्रकाशोत्सव है. लेकिन जब चर्चा सबकी हुई तो बहुमत इस बात पर था कि इसका नाम लोक कल्याण मार्ग रखा जाए.'


टिप्पणियां

मीनाक्षी लेखी ने कहा कि 'पहले हमारा प्रस्ताव था कि क्योंकि रेस कोर्स रोड पीएम के लिए आदर्श पता नहीं हो सकता इसलिये इसका नाम बदलकर एकात्म मार्ग किया जाए. लेकिन मीडिया में खबर आने के बाद लोगों के सुझाव आये और प्रमुख सुझाव था कि पीएम निवास का पता लोक कल्याण मार्ग होना चाहिए तो हमने लोक कल्याण मार्ग रखने का प्रस्ताव रखा.'

वैसे कुल मिलाकर माना ये जा रहा है कि केजरीवाल की तरफ से जिस तरह से और जिस नाम का प्रस्ताव आया उससे बीजेपी अपना बहुमत होते हुए भी सड़क का नाम पंडित दीनदयाल उपाध्याय के 'एकात्म मानवतावाद' के सिद्धांत से जोड़कर नहीं करा पाई. बीजेपी को थोड़ा पीछे हटकर दूसरा नाम लाना पड़ा जो मंज़ूर हुआ.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement