राधे मां हाथ में त्रिशूल लिए पूछताछ के लिए पुलिस थाने पहुंचीं

राधे मां हाथ में त्रिशूल लिए पूछताछ के लिए पुलिस थाने पहुंचीं

अपने आवास से पुलिस थाने के लिए रवाना होतीं राधे मां

मुंबई:

स्वयंभू धर्मगुरु राधे मां के खिलाफ एक महिला द्वारा दर्ज दहेज उत्पीड़न मामले में कांदिवली पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है। अपने परंपरागत लाल रंग की पोशाक पहने और हाथ में त्रिशूल लिए राधे मां एक सफेद एसयूवी से कांदिवली पुलिस थाने पहुंचीं।

बाहर करीब 20 लोग उनका इंतजार कर रहे थे। ये लोग हाथ जोड़े और बुदबुदाते हुए प्रार्थना करते दिखे। पुलिस थाने में पूरी तरह से चाक चौबंद सुरक्षा व्यवस्था थी और करीब 40 पुलिस वाले वहां तैनात हैं।

इस मामले में सत्र अदालत ने गुरुवार को राधे मां की अग्रिम जमानत याचिका रद्द कर दी थी। इसके अलावा गुरुवार को एयरपोर्ट पुलिस स्टेशन में भी राधे मां पर एयरपोर्ट और फ्लाइट में त्रिशूल ले जाने को लेकर शिकायत दर्ज कराई गई।

मुंबई पुलिस ने 5 अगस्त को राधे मां के खिलाफ 32-वर्षीय महिला के ससुराल वालों को दहेज के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया था। सुखविंदर कौर उर्फ राधे मां ने गुरुवार को अग्रिम जमानत के लिए याचिका दायर की थी। राधे मां ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों से इनकार करते हुए कहा था कि उन्होंने कभी भी परिवार के सदस्यों को नहीं उकसाया। उन्हें इस मामले में इसलिए घसीटा जा रहा है, क्योंकि शिकायतकर्ता के ससुराल पक्ष वाले उनके भक्त हैं।

राधे मां की याचिका में कहा गया कि कुटुंब अदालत से अनुकूल आदेश नहीं मिलने के कारण ही शिकायतकर्ता अपनी कुंठा और निराशा में उन पर यह आरोप लगा रही है।

उनके वकील अशोक गुप्ते ने कहा कि उनकी मुवक्किल को फंसाया जा रहा है। पुलिस ने उनसे पूछताछ करने के लिए समन भेजा है, लेकिन उन्हें गिरफ्तार होने का डर है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

शिकायतकर्ता के वकील सनी वास्कर ने कहा कि राधे मां एक प्रभावशाली व्यक्ति हैं और उन्होंने परिवार वालों को उकसाया है। जब से उनकी मुवक्किल ने शिकायत दर्ज कराई है, तब से उन्हें धमकी भरे फोन आ रहे हैं।

मूलतः पंजाब के गुरदासपुर की रहने वाली सुखविंदर कौर उर्फ़ राधे मां इन दिनों अपने पहनावे और भक्तों से मिलने-जुलने के तरीके को लेकर काफी विवादों में हैं। मुंबई की ही एक वकील ने उनके खिलाफ अश्लीलता फ़ैलाने का आरोप लगाया है। (इनपुट भाषा से)