NDTV Khabar

बीजेपी के लिए सबसे कमजोर कड़ी साबित होगा राफेल लड़ाकू विमान सौदा : सलमान खुर्शीद

खुर्शीद ने कहा कि इस बारे में कोई गोपनीयता नहीं हो सकती कि किसी विमान को कितने में खरीदा गया, सरकार खुलासा करे

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बीजेपी के लिए सबसे कमजोर कड़ी साबित होगा राफेल लड़ाकू विमान सौदा : सलमान खुर्शीद

कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने राफेल लड़ाकू विमान सौदे की जानकारी का खुलासा करने की सरकार से मांग की है.

खास बातें

  1. खुर्शीद ने कहा- राफेल सौदे को लेकर हमारे आरोप उचित
  2. राहुल गांधी ने इस मुद्दे पर लोकसभा में बोलने के लिए समय मांगा
  3. यूपीए सरकार के दौरान विमान सौदा कम कीमत पर हो रहा था
पुणे:

राफेल सौदे पर सवालों से घिरी बीजेपी पर रविवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने भी हमला किया. उन्होंने कहा कि फ्रांस के साथ राफेल लड़ाकू विमान सौदा बीजेपी की सबसे कमजोर कड़ी साबित होगा.

खुर्शीद ने यहां ‘‘डिफिकल्ट डायलाग्स’’ सम्मेलन से इतर संवाददाताओं से बातचीत में अपनी पार्टी की मांग दोहराई कि सरकार सौदे की विस्तृत जानकारी का खुलासा करे. उन्होंने कहा कि यदि रणनीतिक आयामों को गोपनीय रखा जाए तो समझा जा सकता है. उन्होंने कहा, ‘‘इस बारे में कोई गोपनीयता नहीं हो सकती कि किसी विमान को कितने में खरीदा गया.’’

यह भी पढ़ें : UPA सरकार के दौरान नहीं हुआ था राफेल करार, रक्षा मंत्रालय के सूत्रों का दावा

कांग्रेस इस मुद्दे पर बीजेपी नीत केंद्र पर हमले कर रही है और दावा कर रही है कि संप्रग शासन काल के दौरान जिस सौदे पर बातचीत हुई थी वह उस सौदे से सस्ता था जिस पर वर्तमान केंद्र सरकार ने फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान 58000 करोड़ रुपये की कीमत पर खरीदने के लिए हस्ताक्षर किया है.


खुर्शीद ने कहा, ‘‘राफेल सौदे को लेकर हमारे आरोप उचित हैं और यह भाजपा के लिए सबसे कमजोर कड़ी साबित होगा.’’ पूर्व केंद्रीय मंत्री खुर्शीद ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस मुद्दे पर लोकसभा में बोलने के लिए समय मांगा है.

टिप्पणियां

VIDEO : राफेल सौदे पर आक्रामक कांग्रेस

खुर्शीद ने तीन तलाक मुद्दे पर कहा कि बीजेपी यह प्रभाव निर्मित करने का प्रयास कर रही है कि वह महिलाओं के लिए कुछ करने का प्रयास कर रही है और कांग्रेस उसका विरोध कर रही है. उन्होंने कहा कि राजनीति की धारणा बीजेपी के खिलाफ हो रही है. उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि संप्रग शिक्षा का अधिकार, सूचना का अधिकार और स्वास्थ्य एवं खाद्य अधिकार जैसे सामाजिक कल्याण उपायों का लाभ उठाने में असफल रही.
(इनपुट भाषा से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement