NDTV Khabar

राफेल डील: SC ने कहा- कीमत नहीं, बताएं क्‍या है फैसले की प्रक्रिया, केन्‍द्र बोला- यह राजनीतिक हित की याचिका

राफेल डील (Rafale Deal) को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में दाखिल याचिका पर सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार की ओर से AG के के वेणुगोपाल ने कहा कि ये जनहित याचिका नहीं बल्कि राजनीतिक हित याचिका है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राफेल डील: SC ने कहा- कीमत नहीं, बताएं क्‍या है फैसले की प्रक्रिया, केन्‍द्र बोला- यह राजनीतिक हित की याचिका

Rafale case in Supreme Court: सुप्रीम कोर्ट में राफेल का मामला

खास बातें

  1. ये जनहित याचिका नहीं बल्कि राजनीतिक हित याचिका है
  2. राफेल डील को लेकर फैसले की प्रक्रिया की जानकारी केन्‍द्र से मांगी है
  3. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि हम केंद्र को नोटिस जारी नहीं कर रहे है
नई दिल्ली: राफेल डील (Rafale Deal) को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में दाखिल याचिका पर सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार की ओर से अटॉर्नी जनरल (AG) केके वेणुगोपाल ने कहा कि ये जनहित याचिका नहीं बल्कि राजनीतिक हित की याचिका है. ये चुनाव का समय है और कोर्ट को इसमें दखल नहीं देना चाहिए. केंद्र सरकार की तरफ से कहा गया कि ये नेशनल सिक्योरिटी का मामला है. केंद्र सरकार ने कहा कि ये जनहित याचिका नहीं है बल्कि राजनीति से प्रेरित याचिका है और ये समय चुनाव का है अगर कोर्ट याचिका पर नोटिस जारी करता है तो सीधे प्रधानमंत्री को जाता है. इस याचिका पर सुनवाई की जरूरत नहीं है.

अरुण शौरी व प्रशांत भूषण से CBI निदेशक की मुलाकात पर सरकार ‘खफा’, राफेल मामले को लेकर हुई थी मीटिंग

सुप्रीम कोर्ट ने कहा चलिए ये मान लीजिए कि मैं आपसे इस डील की जानकारी केवल कोर्ट को देने को कहता हूं? तो क्या आप कोर्ट को देंगे. कोर्ट ने इस मामले में राफेल डील को लेकर फैसले की प्रक्रिया की जानकारी केन्‍द्र सरकार से मांगी है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि हम केंद्र को नोटिस जारी नहीं कर रहे है. ये भी साफ कर रहे हैं कि याचिकाकर्ताओं की दलीलों को भी नहीं रिकार्ड कर रहे है, क्योंकि उनकी दलीलें पर्याप्त नहीं हैं. हम सिर्फ डील को लेकर फैसले की प्रक्रिया पर खुद को संतुष्‍ट करना चाहते हैं. कोर्ट ने कहा कि हम इस मामले में सूटेबिल्टी और दाम पर नहीं जा रहे है और मामले की अगली सुनवाई 31 अक्तूबर को होगी. 

वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने राफेल डील का किया बचाव, बोले- HAL ने सुखोई, LCA और जगुआर की डिलीवरी शेड्यूल में देरी की

वहीं सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई के दौरान अटॉर्नी जनरल ने कहा कि ये मामला पहले से ही संसद में है. याचिकाकर्ता के वकील एमएल शर्मा ने कोर्ट से कहा कि अगर इस मामले में करप्शन हुआ है तो इसकी जांच होनी चाहिए. शर्मा ने कहा कि जो दस्तावेज हमने कोर्ट में दिए हैं उसमें एक राफेल की कीमत 71 मिलियन यूरो है और इसमें करप्शन हुआ है. विनीत ढांडा की ओर से जब दलील दी गई तो CJI ने पूछा विनीत कौन है तो उनके वकील ने बताया कि वो वकील हैं.

आलोचनाओं के बाद बोले शरद पवार, राफेल डील पर PM मोदी का ना कभी समर्थन किया है और ना करूंगा

टिप्पणियां
CJI ने पूछा कि इस केस में उनका क्या कहना है ? शर्मा ने भारत फ्रांस संधि के सिलसिले में विएना कन्वेंशन का ज़िक्र किया. फ्रांस संसद में पेश ओरिजिनल दस्तावेज का हवाला देते हुए राफेल की मूल और असली कीमत 71 मिलियन का दावा किया. सरकार पर 206 मिलियन यूरो के भ्रष्‍टाचार का आरोप लगाया. तीसरे याचिकाकर्ता तहसीन पूनावाला ने याचिका वापस ले ली. 

VIDEO: शिवसेना ने कहा, बोफोर्स का बाप है राफेल घोटाला

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement