राहुल गांधी ने श्रीराम कॉलेज की छात्रा की खुदकुशी को लेकर केंद्र पर हमला बोला, नोटबंदी और लॉकडाउन पर सवाल उठाए

ऐश्वर्या ने सुसाइड नोट में लिखा है कि उसकी पढ़ाई परिवार पर बड़ा आर्थिक बोझ बन गई है. लेकिन अगर वह पढ़ नहीं सकती तो उसे जीने का हक नहीं है.

राहुल गांधी ने श्रीराम कॉलेज की छात्रा की खुदकुशी को लेकर केंद्र पर हमला बोला, नोटबंदी और लॉकडाउन पर सवाल उठाए

लड़की के पिता ने कहा, खराब माली हालत के कारण बेटी को पुराना लैपटॉप भी नहीं दिला सके

नई दिल्ली:

दिल्ली के प्रतिष्ठित श्रीराम कॉलेज (Lady Shri Ram College) की 19 साल की छात्रा ऐश्वर्या रेड्डी द्वारा आत्महत्या करने के मामले में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. राहुल  (Rahul Gandhi) ने कहा कि जानबूझकर की गई नोटबंदी और देशबंदी से भाजपा सरकार ने अनगिनत घर उजाड़ दिए हैं, यही सच्चाई है. उन्होंने छात्रा के परिवारजनों के साथ संवेदना भी जताई. 

राहुल गांधी नोटबंदी, लॉकडाउन जैसे कदमों को लेकर लगातार मोदी सरकार पर हमलावर रहे हैं. रविवार को नोटबंदी के चार साल पूरे होने के मौके पर भी उन्होंने इसे गरीब विरोधी कदम बताया था. राहुल ने आरोप लगाया था कि नोटबंदी के जरिये कुछ पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाया गया. ऐश्वर्या तेलंगाना के रंगारेड्डी जिले की रहने वाली थी और उसके पिता मोटर मैकेनिक थे. पिता का कहना है कि उनकी बेटी आईएएस बनने का सपना देखा करती थी, लेकिन उनके पास इतने पैसे नहीं थे कि लॉकडाउन के दौरान उसके लिए एक पुराना लैपटॉप ही खरीद सकें.  


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, ऐश्वर्या लेडी श्रीराम कॉलेज से बीएससी मैथमेटिक्स की छात्रा थी. 12वीं कक्षा में 95 फीसदी अंक हासिल करने वाली ऐश्वर्या ने दो नवंबर को अपने घर में ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. ऐश्वर्या ने सुसाइड नोट में लिखा है कि उसकी पढ़ाई परिवार पर बड़ा आर्थिक बोझ बन गई है. लेकिन अगर वह पढ़ नहीं सकती तो उसे जीने का हक नहीं है. दिल्ली में ऐश्वर्या के एडमिशन के लिए भी उनके पिता श्रीनिवास ने घर को गिरवी रखकर दो लाख रुपये का लोन लिया था, जिसकी किस्त वह अभी तक चुका रहे हैं. श्रीनिवास का कहना है कि लॉकडाउन के दौरान दुकान बंद रहने से वित्तीय हालत और खराब हो गई. छह माह बाद दोबारा दुकान खुलने के बावजूद कारोबार पटरी पर नहीं आ पाया था.