NDTV Khabar

राहुल गांधी ने जेटली परिवार को खत लिख जाहिर की संवेदनाएं, कहा- उनकी कमी खलेगी

राहुल गांधी ने पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन पर शोक जाहिर करते हुए जेटली परिवार को पत्र लिख अपनी संवेदनाएं प्रकट की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राहुल गांधी ने जेटली परिवार को खत लिख जाहिर की संवेदनाएं, कहा- उनकी कमी खलेगी

राहुल गांधी ने कहा जेटली जी की कमी हमेशा खलेगी

नई दिल्ली:

राहुल गांधी ने पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन पर शोक जाहिर करते हुए जेटली परिवार को पत्र लिख अपनी संवेदनाएं प्रकट की. उन्होंने लिखा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली की आवाज अब संसद में सुनायी नहीं देगी और उनकी कमी हमेशा खलेगी. राहुल ने जेटली की पत्नी संगीता को भेजे शोक संदेश में कहा कि जेटली ने अपने चार दशक के शानदार करियर में राजनीति पर अमिट छाप छोड़ी है. उन्होंने अपने पत्र में कहा कि जेटली जी की आवाज अब संसद में सुनाई नहीं देगी और उनकी कमी हमेशा खलेगी. उन्होंने उनके परिवार के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करते हुए कहा कि ईश्वर परिवार को इस मुश्किल समय से उबरने की ताकत और इस दुख को सहने की शक्ति दे. 

पेन से लेकर घड़ियों तक, इन महंगे ब्रांड्स के शौकीन थे अरुण जेटली


राहुल गांधी के अलावा सोनिया गांधी ने भी अरुण जेटली की पत्नी संगीता जेटली को पत्र लिख शोक व्यक्त किया. सोनिया गांधी ने लिखा "मैं आपके पति के निधन के बारे में सुनकर बहुत दुखी हूं."  उन्होंने कहा कि अरुण जेटली एक ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने राजनीतिक दायरे से बाहर और जीवन के हर पड़ाव पर दोस्तों और प्रशंसकों को आकर्षित किया है. सोनिया गांधी ने कहा, "कैबिनेट में किसी भी पद पर रहते हुए, राज्यसभा में विपक्ष के नेता के रूप में, और सर्वोच्च न्यायालय में एक वरिष्ठ अधिवक्ता के रूप में उनकी तीक्ष्ण बुद्धि , क्षमता और उनका संचार कौशल स्पष्ट था" उन्होंने कहा, "अरुण जेटली ने अपनी क्रूर बीमारी का अंत तक बहुत साहस के साथ मुकाबला किया. उनका जाना और भी दुखद है क्योंकि अभी वह बहुत जवान थे, उनके पास राष्ट्रीय जीवन में योगदान देने के लिए बहुत कुछ था.' उन्होंने पत्र में लिखा, "इस दुःख की घड़ी में शब्द सांत्वना के लिए थोड़े हैं, लेकिन मैं चाहती थी कि आप, आपका बेटा और आपकी बेटी को पता चले कि मैं आपका दुख साझा करती हूं. अरुणजी को शांति मिले.''

परदे के पीछे रहकर योजना बनाने में माहिर थे पूर्व वित्त मंत्री, सभी पार्टियों में थे उनके दोस्त

पत्रकार परिसर के मुन्ना टेलर को नया जीवन दे गए जेटली

बता दें अरुण जेटली का शनिवार को एम्स (AIIMS) में निधन हो गया. वह 66 वर्ष के थे. जेटली का कई सप्ताह से एम्स में इलाज चल रहा था. एम्स ने इसकी घोषणा करते हुए एक संक्षिप्त बयान में कहा कि हम बड़े दुख के साथ अरुण जेटली के निधन की जानकारी दे रहे हैं. जेटली को सांस लेने में दिक्कत और बेचैनी की शिकायत के बाद नौ अगस्त को एम्स में भर्ती कराया गया था. रविवार को सुबह 10:30 बजे से दोपहर 1 बजे तक पार्टी मुख्यालय में अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा. इसके बाद दोपहर 2:30 बजे निगम बोध घाट पर उनका अंतिम संस्कार होगा.

टिप्पणियां

इनपुट- भाषा से 

Video: बीजेपी और अरुण जेटली के बीच कभी ना टूटने वाला रिश्ता था: पीएम मोदी



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement