NDTV Khabar

महाराष्ट्र में एक चुनावी रैली के दौरान बोले राहुल गांधी, जेब कतरे की तरह मोदी, मुद्दों से ध्यान भटकाते हैं

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कुछ उद्योगपतियों का “भोंपू” करार देते हुए कहा कि उनकी रणनीति एक जेबकतरे जैसी है जो चोरी से पहले लोगों का ध्यान बांट देता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महाराष्ट्र में एक चुनावी रैली के दौरान बोले राहुल गांधी, जेब कतरे की तरह मोदी, मुद्दों से ध्यान भटकाते हैं

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने आरोप लगाया, 'मोदी अडाणी और अंबानी के भोंपू हैं

खास बातें

  1. महाराष्ट्र के यवतमाल जिले में राहुल गांधी की रैली
  2. कहा- कांग्रेस की प्रस्तावित ‘न्याय’ योजना अर्थव्यवस्था को तेज गति देती
  3. पीएम मोदी को कुछ उद्योगपतियों का 'भोंपू' करार दिया
यवतमाल :

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कुछ उद्योगपतियों का “भोंपू” करार देते हुए कहा कि उनकी रणनीति एक जेबकतरे जैसी है जो चोरी से पहले लोगों का ध्यान बांट देता है. महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले यवतमाल जिले में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री चांद और जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 के प्रावधानों के रद्द होने के बारे में बोलते हैं लेकिन किसानों और बेरोजगारी जैसे आम लोगों द्वारा सामना किये जा रहे मुद्दों के बारे में चुप रहते हैं. उन्होंने दावा किया, “GST और नोटबंदी ने छोटे और मझौले उद्यमियों, किसानों, मजदूरों और गरीब लोगों की कमर तोड़ दी. जब तक मोदी सरकार सत्ता में है, बेरोजगारी की समस्या देश में लगातार बनी रहेगी. छह महीनों में बेरोजगारी की समस्या और बढ़ेगी.' 

BJP ने जारी किया घोषणा पत्र, वीर सावरकर को भारत रत्न दिलाने का किया वादा


कॉरपोरेट टैक्स में रियायत के सरकार के फैसले की आलोचना करते हुए गांधी ने कहा कि कुछ उद्योगपतियों को ऐसे फायदे दिये गए लेकिन समाज के गरीब वर्ग को नहीं. उन्होंने दावा किया कि सरकार की बंदरगाह, एअर इंडिया, कोयला खदानों और सार्वजनिक उपक्रमों जैसी देश की संपदाओं के निजीकरण की योजना है. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने आरोप लगाया, 'मोदी अडाणी और अंबानी के भोंपू हैं. एक जेबकतरे की तरह, जो चोरी से पहले लोगों का ध्यान बांटता है, उनका (मोदी) एकमात्र काम आपका ध्यान बांटना है जिससे वह आपका रुपया कुछ चुनिंदा उद्योगपतियों को दे सकें.' 

RSS प्रमुख के ‘हिंदू राष्ट्र' बयान से सहमत नहीं मायावती, बोलीं- इस तरह का बयान देने से पहले...

उन्होंने कहा कि मनरेगा, भोजन का अधिकार, भूमि अधिग्रहण और जनजाति कानून में संशोधन किया गया लेकिन सरकार को जीएसटी में संशोधन स्वीकार्य नहीं. गांधी ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था उद्योगपतियों द्वारा नहीं बल्कि किसानों, मजदूरों और मझौले व्यापारियों द्वारा चल रही है. उन्होंने कहा, 'जब गरीब को रुपया मिलता है तो वह खरीदारी शुरू करता है, जब मांग बढ़ती है तो उत्पादक को फायदा होता है.' कांग्रेस नेता ने कहा कि कांग्रेस द्वारा प्रस्तावित ‘न्याय' योजना अर्थव्यवस्था को तेज गति देती. 

टिप्पणियां

PMC Bank घोटाले के पीड़ित खाताधारक की दिल का दौरा पड़ने से मौत, बैंक में फंसे हैं 90 लाख रुपये

गांधी ने आरोप लगाया कि मनरेगा का वार्षिक बजट 35 हजार करोड़ रुपये है और मोदी सरकार ने एक दिन में 1.25 लाख करोड़ रुपये का कॉरपोरेट कर माफ कर दिया. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के हालिया फ्रांस दौरे के संदर्भ में उन्होंने कहा कि सिंह ने राफेल युद्धक विमान की पूजा की. उन्होंने आरोप लगाया, 'लेकिन, विमान सौदे से 35 हजार करोड़ रुपये चुरा लिये गए. मीडिया इस बारे में नहीं लिखेगी क्योंकि उसे उद्योगपति द्वारा नियंत्रित किया जा रहा है. आपका पैसा मीडिया को दिया जा रहा है जिससे वे मोदी का प्रचार कर सकें.' उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के पास कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन के लिये मतदान कर सभी समस्याओं को दूर करने का मौका है. उन्होंने कहा, 'हम एक ऐसी सरकार लाएंगे जो गरीबों, किसानों, छोटे और मझौले व्यापारियों के लिये काम करेगी.' 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement