NDTV Khabar

सचिन पायलट ने दिए संकेत, दिवाली के बाद हो सकता है राहुल का 'राजतिलक'  

राजस्थान कांग्रेस प्रमुख सचिन पायलट ने कहा है कि अब समय आ गया है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पार्टी की कमान संभाल लेनी चाहिए.

3076 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सचिन पायलट ने दिए संकेत, दिवाली के बाद हो सकता है राहुल का 'राजतिलक'  

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गुजरात दौरे के दौरान कई मंदिरों का दौरा किया था. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. सचिन पायलट ने कहा, 'पार्टी में आम राय तो यही है
  2. उन्होंने कहा, 'संगठनात्मक चुनाव कांग्रेस में चल रहे हैं
  3. राहुल ने भी पिछले माह अमेरिकी यात्रा के दौरान दिए थे संकेत
नई दिल्ली: राजस्थान कांग्रेस प्रमुख सचिन पायलट ने कहा है कि अब समय आ गया है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पार्टी की कमान संभाल लेनी चाहिए. उन्होंने यह उम्मीद जताई है कि राहुल दिवाली के कुछ समय बाद यह जिम्मेदारी संभाल सकते हैं.  

यह भी पढ़ें : अमित शाह ने राहुल गांधी पर किया वार, वंशवाद की राजनीति सफल नहीं होने देंगे

काफी समय से चल रही है योजना
यह पूछे जाने पर कि कांग्रेस के संगठन चुनाव में क्या राहुल गांधी को पार्टी की कमान संभालनी चाहिए. सचिन ने कहा, 'पार्टी में आम भावना तो यही है. गांधी को पार्टी की कमान संभालनी चाहिए. हालांकि उपाध्यक्ष के रूप में वह अभी भी पार्टी के अधिकतर कामों को अंजाम दे रहे हैं. अब समय आ गया है कि उन्हें यह जिम्मेदारी संभाल लेनी चाहिए. वैसे स्वयं उन्होंने भी कहा है कि वह इसके लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा, 'संगठनात्मक चुनाव कांग्रेस में चल रहे हैं. नये अध्यक्ष दिवाली के बाद जिम्मेदारी संभाल सकते हैं. इसकी योजना काफी समय से चल रही है.'

यह भी पढ़ें : 4 से 6 अक्टूबर के बीच अमेठी का दौरा नहीं टालेंगे राहुल गांधी, डीएम ने दी थी दौरा आगे बढ़ाने की सलाह

राहुल ने भी दिए थे संकेत
राहुल ने पिछले माह अमेरिकी यात्रा के दौरान कहा था कि वह कांग्रेस नेतृत्व का उत्तरदायित्व संभालने के लिए तैयार हैं. प्रियंका को क्या राजनीति में आना चाहिए, इस प्रश्न के उत्तर में सचिन ने कहा, 'यह उनका व्यक्तिगत निर्णय है. मेरा मानना है कि वह कांग्रेस परिवार से संबंधित हैं और जरूरत पड़ने पर अपना योगदान देती हैं. वह सक्रिय राजनीति में आएं या नहीं, यह उनका एवं उनके परिवार का निजी फैसला होगा.' कांग्रेस में बुजुर्ग पीढ़ी को युवाओं को रास्ता देने के बारे में सवाल करने पर उन्होंने कहा, 'वैसे तो यह एक स्वाभाविक क्रम है. पर बात मौका देने की नहीं सबको साथ लेकर चलने की है. ऐसा नहीं है कि कोई 'कट आफ डेट' होनी चाहिए.'

यह भी पढ़ें : यशवंत सिन्हा के बहाने राहुल गांधी ने बीजेपी पर कटाक्ष किया, लिखा- कृपया अपनी सीटबेल्ट बांध लें

'राजनीति में मापदंड लोगों को हटाने के लिए बनते हैं'
उन्होंने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री के लिए आयु मापदंड पर चुटकी लेते हुए कहा, 'राजनीति में मापदंड चयन के लिए नहीं बल्कि लोगों को हटाने के लिए बनाए जाते हैं. हमें पुरानी पीढ़ी के अनुभवों का पूरा लाभ उठाना चाहिए.

VIDEO: बर्कले यूनिवर्सिटी में राहुल के मन की बात
उन्होंने कहा, हम (कांग्रेस) भाजपा की तरह मार्गदर्शक मंडल बनाने में विश्वास नहीं करते. भाजपा के मार्गदर्शक मंडल से बढ़कर कोई मजाक नहीं हो सकता. आज (लालकृष्ण) आडवाणी जी और (यशवंत) सिन्हा जी की क्या हालत बना रखी है, आप भाजपा वालों से पूछ सकते हैं. हमारे यहां ऐसा नहीं हो सकता.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement