NDTV Khabar

2019 में राहुल हो सकते हैं प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार : हार्दिक पटेल

गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी के लिए मुश्किलें पैदा करने वाले हार्दिक ने कहा कि मोदी के सामने कौन का सवाल बेमानी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
2019 में राहुल हो सकते हैं प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार : हार्दिक पटेल

हार्दिक पटेल ने कहा कि कांग्रेस ने वादे पूरे नहीं किये तो उसका भी विरोध करूंगा

नई दिल्‍ली:

पिछले कुछ सालों में तीन जो युवा नेता उभरे में उनमें से एक हैं हार्दिक पटेल. हार्दिक इतने युवा हैं कि अब जाकर वो चुनाव लड़ने के लायक हुए हैं. लेकिन चुनावी राजनीति में वो कब आएंगे? किसके लिए वो कितना बड़ा खतरा बन गए हैं और सरकार बनाने के लिए किसके साथ जाएंगे ऐसे तमाम विषयों पर हार्दिक ने बात की कार्यक्रम 'हम लोग' में. हार्दिक पटेल ने कहा, 'मैं राहुल गांधी का समर्थक नहीं हूं, लेकिन निजी तौर पर मुझे लगता है कि हाल के चुनावी नतीजों के बाद 2019 में नरेंद्र मोदी के सामने अगर कोई प्रधानामंत्री पद का उम्मीदवार को सकता है तो वो राहुल गांधी हैं. हार्दिक ने इसके पीछे वजह बताते हुए कहा कि राहुल ईमानदारी से बात रखते हैं और प्रधानमंत्री मोदी की तरह झूठ और ध्रुवीकरण का सहारा नहीं लेते. गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी के लिए मुश्किलें पैदा करने वाले हार्दिक ने कहा कि मोदी के सामने कौन का सवाल बेमानी है, मिसाल के तौर पर कपिल देव खेलते थे तो लगता था कि भारतीय क्रिकेट टीम में कपिल के बाद कौन? लेकिन फिर सचिन तेंदुलकर आए और सचिन के बाद विराट कोहली.

वाह मोदी जी वाह!
हार्दिक जो टी-शर्ट पहनकर आए थे उसमें लिखा था वाह मोदी जी वाह! इस बारे में पूछे जाने पर हार्दिक ने बताया कि ये विरोध का एक तरीका है. प्रधानमंत्री मोदी के वादे के मुताबिक न युवाओं को रोज़गार मिला, न किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य इसलिए कटाक्ष के तौर पर टी-शर्ट पर लिखवाया है वाह मोदी जी वाह! पाटीदार अनामत आंदोलन के नेता ने कहा कि गुजरात की बीजेपी सरकार ने उन्हें परेशान करने में कोई कसर नहीं छोड़ी. अनशन के दौरान अहमदाबाद में उनके मकान मालिक पर दबाव डाला, उसके बाद कोई किराए पर घर देने को तैयार नहीं था, हार्दिक ने कहा कि मुझ पर देशद्रोह के दो केस किए गए हैं. जब देश एक है तो दो देशद्रोह कैसे? सिर्फ़ 25 साल के पाटीदार नेता ने कहा जब बीजेपी को गुजरात के लोगों के लिए ब्लूप्रिंट बनाना था तब वो ब्लू फ़िल्म बनाने में जुटी रही.


हां परिवार बीजेपी समर्थक था, मैंने मोदी को वोट दिया
हार्दिक पटेल ने माना कि उनका परिवार बीजेपी समर्थक था और 2014 में उन्होंने भी नरेंद्र मोदी को वोट दिया. उसके बाद जब वो गांव से बाहर निकले तो उन्हें असली गुजरात मॉडल का पता चला जो साबरमती रिवर फ्रंट से अलग था, गांवों की हालत शहरों से अलग थी, फिर हक़ मांगने पर पाटीदार समाज के लोगों का दमन किया गया जिसके बाद वो बीजेपी से अलग हो गए.

जिसकी जितनी संख्या भारी, उसकी उतनी भागीदारी
पाटीदार समुदाय तो संपन्न है और उसे आरक्षण की क्या ज़रूरत के सवाल पर हार्दिक ने कहा कि देश जातियों से बना है और जिसकी जितनी संख्या भारी, उसकी उतनी हिस्सेदारी. हार्दिक ने कहा कि जिस तरह मराठा आरक्षण दिया गया है उसी तरह पटेलों को आरक्षण देना चाहिए, सभी संपन्न नहीं है, इस आधार पर आरक्षण नहीं दिया गया तो ये ऐसे ही होगा जैसे मोदी पीएम बन जाएं तो सारे मोदी आरक्षण छोड़ दें.

किसी पार्टी में आने से फिलहाल इनकार
25 साल के हो चुके हार्दिक पटेल ने NDTV इंडिया से बात करते हुए कहा कि जब तक उनके पास जनता की समस्याओं का समाधान नहीं होगा तो पार्टी पॉलिटिक्स में जाने का कोई मतलब नहीं होगा. हार्दिक ने कहा कि वो पूरे देश में घूमेंगे और सत्ता की ग़लत नीतियों का विरोध करते रहेंगे.

ईवीएम के ख़िलाफ़ बैलेट पेपर के पक्ष में
गुजरात चुनाव में सूरत के नतीजों पर सवाल खड़ा करने वाले हार्दिक पटेल ने यह भी कहा कि भले ही कांग्रेस 3 राज्यों में जीत गई हो लेकिन ईवीएम से छेड़छाड़ का सवाल बना हुआ है. पटेल ने कहा कि मध्यप्रदेश में काफी देर से आए नतीजे फिर से सवाल उठा रहे हैं. हार्दिक ने कहा कि जब प्राइम टाइम के वक़्त कई जगह टीवी पर NDTV इंडिया नहीं दिखता, सोशल मीडिया के ज़रिए भ्रम फ़ैलाया जा सकता है तो ऐसे वक़्त में ईवीएम से छेड़छाड़ नहीं हो सकती ये कैसे मानें?

कांग्रेस विपक्ष के तौर पर कमज़ोर
गुजरात चुनाव में कांग्रेस के पक्ष में प्रचार कर चुके हार्दिक पटेल ने कहा कि मैं सत्ता के ख़िलाफ़ हूं, अगर मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार ने किसानों का क़र्ज़ माफ़ नहीं किया तो जनवरी में वहां होने वाली रैली में मैं कांग्रेस का विरोध करूंगा. हार्दिक ने बीजेपी को विपक्ष के लिए सबसे मुफ़ीद पार्टी बताते हुए कहा कि बीजेपी विपक्ष में बेहतर करती है, घरेलू गैस सिलिंडर के दाम 350 से 355 रुपये भी जाते थे तो दोनों दीदी (स्मृति ईरानी और सुषमा स्वराज) जमकर विरोध करती थीं लेकिन अब घरेलू गैस सिलिंडर के दाम 800 से 900 रुपये तक पहुंच गए लेकिन वैसा विरोध नहीं होता, कांग्रेस विपक्ष के तौर पर कमज़ोर है.

टिप्पणियां

VIDEO: हम लोग : पाटीदार नेता हार्दिक पटेल से खास मुलाकात

हार्दिक पूरे इंटरव्यू में मोदी सरकार पर हमलावर रहे और क्या वाराणसी से पीएम मोदी के ख़िलाफ़ चुनाव लड़ेंगे के सवाल पर बोले कि मां गंगा ने बुलाया था और कुछ काम नहीं हो पाया तो मां गंगा दूसरे बेटे को भी बुला सकती है. हार्दिक बार-बार कहते रहे कि पीएम मोदी वादों पर खरे नहीं उतरे.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement