राहुल गांधी का मोदी सरकार पर तंज, बोले- नौकरी दो, खाली नारे नहीं

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, 'मोदी सरकार भारत के भविष्य को खतरे में डाल रही है. अहंकार की वजह से वो JEE-NEET आकांक्षियों की वास्तविक चिंताओं के साथ-साथ SSC और अन्य परीक्षा देने वालों की मांगों की अनदेखी कर रहे हैं. नौकरी दो, खाली नारे नहीं.'

राहुल गांधी का मोदी सरकार पर तंज, बोले- नौकरी दो, खाली नारे नहीं

राहुल गांधी वायनाड से सांसद हैं. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • वायनाड से सांसद हैं राहुल गांधी
  • राहुल ने साधा केंद्र सरकार पर निशाना
  • बोले- नौकरी दो, खाली नारे नहीं
नई दिल्ली:

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने एक बार फिर मोदी सरकार (Modi Govt) पर छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ करने का आरोप लगाया है. राहुल सोशल मीडिया पर खासा एक्टिव रहते हैं और वह लगभग हर रोज देश के मुद्दों को इस प्लेटफॉर्म के जरिए उठाते हैं. राहुल ने कुछ देर पहले ट्वीट किया कि मोदी सरकार भारत के भविष्य को खतरे में डाल रही है. वह परीक्षार्थियों की मांगों की अनदेखी कर रही है. उन्होंने केंद्र से मांग की कि सरकार नौकरियां दें, खाली नारेबाजी न करे.

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, 'मोदी सरकार भारत के भविष्य को खतरे में डाल रही है. अहंकार की वजह से वो JEE-NEET आकांक्षियों की वास्तविक चिंताओं के साथ-साथ SSC और अन्य परीक्षा देने वालों की मांगों की अनदेखी कर रहे हैं. नौकरी दो, खाली नारे नहीं.'

राहुल ने सोमवार को एक वीडियो मैसेज के जरिए कहा था, 'जो आर्थिक त्रासदी देश झेल रहा है उस दुर्भाग्यपूर्ण सच्चाई की आज पुष्टि हो जाएगी. भारतीय अर्थव्यवस्था 40 वर्षों में पहली बार भारी मंदी में है. असत्याग्रही इसका दोष ईश्वर को दे रहे हैं. बीजेपी की सरकार ने असंगठित अर्थव्यवस्था पर आक्रमण किया है और आपको गुलाम बनाने की कोशिश की जा रही है.'

कांग्रेस अध्यक्ष के लिए चुनाव पर बोले सलमान खुर्शीद - कोई जल्दी नहीं, उसके बिना कोई आसमान नहीं टूट रहा

उन्होंने इसके तीन बड़े उदाहरण देते हुए कहा, 'नोटबंदी, गलत जीएसटी और लॉकडाउन. आप यह मत सोचिए कि लॉकडाउन के पीछे सोच नहीं थी. यह मत सोचिए कि आखिरी मिनट पर लॉकडाउन कर दिया गया. इन तीनों का लक्ष्य हमारी इनफॉरमल सेक्टर को खत्म करने का है. प्रधानमंत्री जी को अगर सरकार चलानी है, मीडिया की जरूरत है, मार्केटिंग की जरूरत है, मीडिया और मार्केटिंग 15-20 लोग करते हैं. इनफॉरमल सेक्टर में पैसा है, लाखों करोड़ों रुपये, जिसको यह लोग छू नहीं सकते. किसानों के घर में मजदूरों के पास छोटे बिजनेज में दुकानदारों के पास लाखों करोड़ों रुपये हैं. इसको यह लोग तोड़ना चाहते हैं, पैसा लेना चाहते हैं.'

Newsbeep

VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम : NEET और JEE की परीक्षा रद्द होनी चाहिए?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com