राहुल गांधी का करारा तंज, तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था को कैसे बर्बाद करें, मोदी सरकार से सीखें

राहुल गांधी ने बजट सत्र से पहले मोदी सरकार पर कटाक्ष किया है. उन्होंने कहा है कि तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था को कैसे बर्बाद किया जाए, ये मोदी सरकार से सीखें.

राहुल गांधी का करारा तंज, तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था को कैसे बर्बाद करें, मोदी सरकार से सीखें

राहुल गांधी ने ट्वीट कर मोदी सरकार को घेरा

खास बातें

  • 1 फरवरी को पेश होगा आम बजट
  • बजट से पहले राहुल गांधी ने किया ट्वीट
  • ट्वीट में अर्थव्यवस्था को गिराने का लगाया है आरोप

कांग्रेस के नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने बजट सत्र से पहले नरेंद्र मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है. कांग्रेस के  पूर्व अध्यक्ष ने अर्थव्यवस्था को लेकर ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है कि तेजी से बढ़ रही अर्थव्यवस्था को कैसे बर्बाद करें, इसकी सीख मोदी सरकार से लें. उन्होंने लिखा की श्री मोदी सरकार सबके सामने एक सबक की तरह हैं कि दुनिया की तेजी से बढ़ रही अर्थव्यवस्था को कैसे बर्बाद किया जाए. बता दें कि आगामी 1 फरवरी को बजट पेश किया जाएगा.

इससे पहले के ट्वीट में राहुल गांधी ने केंद्र सरकार से फिर आग्रह किया कि तीनों ‘कृषि विरोधी कानूनों' को वापस लिया जाए. उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के एक कथन का हवाला देते हुए ट्वीट किया, “विनम्र तरीक़े से आप दुनिया हिला सकते हैं-महात्मा गांधी. एक बार फिर मोदी सरकार से अपील है कि तुरंत कृषि-विरोधी क़ानून वापस लिए जाएं.''कांग्रेस नेता ने मंगलवार को हुई हिंसा की पृष्ठभूमि में महात्मा गांधी के कथन का उल्लेख किया. 


गौरतलब है कि किसान समूहों की ट्रैक्टर परेड के दौरान कई स्थानों पर पुलिस के साथ झड़प हुई. इसके बाद पुलिस ने किसान समूहों पर आंसू गैस के गोले छोड़े तथा लाठीचार्ज किया. दिल्ली की सीमा पर कई स्थानों पर प्रदर्शनकारियों ने अवरोधक तोड़ दिए. ट्रैक्टर परेड के लिए निर्धारित मार्ग से हटकर प्रदर्शनकारी किसानों का एक समूह मंगलवार को लालकिले में घुस गया और राष्ट्रीय राजधानी स्थित इस ऐतिहासिक स्मारक के कुछ गुंबदों पर अपने झंडे लगा दिए थे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि गणतंत्र दिवस पर किसान संगठनों की ओर से निकाली गई ट्रैक्‍टर रैली ने मंगलवार को झड़प का रूप ले लिया था. इसमें 300 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. सिंघु बॉर्डर पर आज किसान नेता इकट्ठे हुए और उन्होंने किसानों को संबोधित करते हुए शांति से आंदोलन करते रहने की बात कही है.