NDTV Khabar

Global Hunger Index में भारत की रैंकिंग गिरने पर राहुल गांधी का मोदी सरकार पर हमला- उठाए ये सवाल

ग्लोबल हंगर इंडेक्स (Global Hunger Index) में भारत अपने पड़ोसी मुल्कों नेपाल (Nepal), बांग्लादेश (Bangladesh) और पाकिस्तान (Pakistan) से भी पिछड़ा हुआ है. इसे लेकर राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने मोदी सरकार पर हमला बोला.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Global Hunger Index में भारत की रैंकिंग गिरने पर राहुल गांधी का मोदी सरकार पर हमला- उठाए ये सवाल

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत की रैंकिंग गिरने पर राहुल गांधी (Rahul Gandhi) का मोदी सरकार पर हमला.

खास बातें

  1. राहुल गांधी ने GHI में भारत की रैंकिंग पर सरकार को घेरा
  2. कहा- रैंकिंग ने मोदी के 'सबका विकास' दावे को बेनकाब कर दिया
  3. ग्लोबल हंगर इंडेक्स में नेपाल और पाकिस्तान से भी पीछे भारत

ग्लोबल हंगर इंडेक्स (Global Hunger Index) में भारत अपने पड़ोसी मुल्कों नेपाल (Nepal), बांग्लादेश (Bangladesh) और पाकिस्तान (Pakistan) से भी पिछड़ा हुआ है. मानवीय सहायता के उद्देश्य से काम करने वाली दो अंतरराष्ट्रीय गैर-मुनाफा संस्थाओं द्वारा जारी की गई 117 मुल्कों की इस सूची में भारत 102वें स्थान पर. ग्लोबल हंगर इंडेक्स, यानी GHI स्कोर के मामले में देशों को 100-सूत्री 'सीवियरिटी स्केल' (गंभीरता पैमाना) पर परखा जाता है, जिसमें शून्य (कोई भुखमरी नहीं) को बेहतरीन स्कोर माना जाता है, और 100 बदतरीन स्कोर होता है. रिपोर्ट के मुताबिक, 30.3 के स्कोर के साथ भारत भुखमरी के ऐसे स्तर से जूझ रहा है, जिसे गंभीर माना जाता है. इसे लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला.

4f7hv9r


राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, 'वर्ष 2014 के बाद से भारत वैश्विक भूख सूचकांक (Global Hunger Index) की रैंकिंग में लुढ़कता जा रहा है. अब 102वें स्थान पर पहुंच गया है. यह रैंकिंग सरकार की नीतियों की घोर विफलता है और मोदी के 'सबका विकास' दावे को बेनकाब कर दिया है जिसका गुणगान मोदी समर्थक मीडिया करता रहता है.' 

टिप्पणियां

GHI को लेकर कपिल सिब्बल ने पीएम मोदी पर कसा तंज, कहा- राजनीति पर कम और बच्चों पर ज्यादा ध्यान दीजिए

बता दें कि GHI में वर्ष 2014 में 55वें स्थान पर मौजूद रहा भारत 2019 में 102वें स्थान पर पहुंच गया है. हालांकि, सूची में दर्ज किए गए मुल्कों की तादाद हर साल घटती-बढ़ती रही है. वर्ष 2014 में भारत 76 मुल्कों की फेहरिस्त में 55वें पायदान पर था. वर्ष 2017 में बनी 119 मुल्कों की फेहरिस्त में उसे 100वां पायदान हासिल हुआ था, और वर्ष 2018 में वह 119 देशों की सूची में 103वें स्थान पर रहा था. इस साल की रिपोर्ट में 117 देशों के सैम्पलों का आकलन किया गया था, और भारत को 102वां स्थान मिला.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement