NDTV Khabar

जलियांवाला बाग जनसंहार 100वीं बरसी : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और अमरिंदर सिंह ने श्रद्धांजलि अर्पित की

इतिहास में दर्ज इस दुखद घटना पर पंजाब सरकार की ओर से कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए गए थे. शुक्रवार की शाम मुख्यमंत्री और राज्यपाल वीपी सिंह बदनोर ने कैंडललाइट मार्च में भी हिस्सा लिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जलियांवाला बाग जनसंहार 100वीं बरसी : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और अमरिंदर सिंह ने श्रद्धांजलि अर्पित की

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भी मौजूद थे.

नई दिल्ली:

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी  ने जलियांवाला बाग नरसंहार के 100 वर्ष पूरे होने के मौके पर जलियांवाला बाग स्मारक स्थल पर श्रद्धांजलि अर्पित की और कहा कि स्वतंत्रता की जो कीमत चुकाई गई है उसे भुलाया नहीं जाना चाहिए.  राहुल के साथ पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू सहित कांग्रेस के अन्य नेता भी मौजूद थे. सभी नेताओं ने जलियांवाला बाग के भीतर स्थित स्मारक स्थल पर सुबह श्रद्धांजलि अर्पित की साथ ही 13 अप्रैल, 1919 को बर्बर तरीके से मौत के घाट उतारे गए लोगों की याद में दो मिनट का मौन भी रखा. गांधी शुक्रवार रात अमृतसर पहुंचे, इसके बाद वह सिंह के साथ स्वर्ण मंदिर गए और वहां मत्था टेका. राहुल गांधी ने यहां आगंतुक पुस्तिका में लिखा, ‘‘ आजादी की कीमत को कभी भुलाया नहीं जाना चाहिए. हम भारत के लोगों को सलाम करते हैं जिन्होंने आजादी के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया.'' भारत में ब्रिटेन के उच्चायुक्त डोमिनिक आस्क्वीथ भी अलग से शनिवार को जलियांवाला बाग स्मारक स्थल गए. उन्होंने आगंतुक पुस्तिका में लिखा, ‘‘ आज से 100 साल पहले की जलियांवाला बाग घटना ब्रिटिश भारतीय इतिहास की एक शर्मनाक घटना है. जो कुछ भी हुआ और उससे उपजी पीड़ा से हमें बेहद दुख है.'' 

जलियांवाला बाग की 100 वीं बरसी : भारत में ब्रिटिश उच्चायुक्त ने नरसंहार को बताया इतिहास की शर्मनाक घटना


इतिहास में दर्ज इस दुखद घटना पर पंजाब सरकार की ओर से कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए गए थे. शुक्रवार की शाम मुख्यमंत्री और राज्यपाल वीपी सिंह बदनोर ने कैंडललाइट मार्च में भी हिस्सा लिया. सिंह ने भारत के इतिहास में इस घटना को बेहद दुखदाई बताया. ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने जलियांवाला नरसंहार कांड की 100वीं बरसी से पहले बुधवार को इसे ब्रिटिश भारतीय इतिहास में ‘शर्मसार करने वाला धब्बा' करार दिया लेकिन उन्होंने इस मामले में औपचारिक माफी नहीं मांगी. 

जलियांवाला बाग हत्‍याकांड : वह जगह, जहां अब भी मौजूद हैं निहत्थों पर बरसाई गई गोलियों के निशां, 10 खास बातें

गौरतलब है कि पंजाब के अमृतसर में स्थित जलियांवाला बाग नरसंहार 13 अप्रैल 1919 को वैशाखी के दिन हुआ था. जलियांवाला बाग में स्वतंत्रता के समर्थन में शांतिपूर्वक प्रदर्शन करने के लिए जुटी भीड़ पर कर्नल आर डायर के नेतृत्व में ब्रिटिश इंडियन आर्मी ने अंधाधुंध गोलीबारी की जिसमें सैकड़ों लोग मारे गए थे.

टिप्पणियां

जलियांवाला बाग की 100 वीं बरसी पर देश ने दी शहीदों को श्रद्धांजलि​

इनपुट : भाषा



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement