NDTV Khabar

राहुल द्वारा GST को 'गब्बर सिंह टैक्स' बताए जाने पर अरुण जेटली ने दिया यह जवाब 

वित्त मंत्री ने कहा कि 2जी स्पेक्ट्रम और कोयला खान आवंटन में हुए विशाल घोटालों के आदी रहे लोगों को वैधानिक कर से आपत्ति है.

820 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
राहुल द्वारा GST को 'गब्बर सिंह टैक्स' बताए जाने पर अरुण जेटली ने दिया यह जवाब 

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली.

खास बातें

  1. जेटली बोले, घोटालों के आदी रहे लोगों को वैधानिक कर से आपत्ति है
  2. वित्त मंत्री ने 8 नवंबर को काला दिवस मनाने के फैसले पर भी निशाना साधा
  3. उन्होंने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था सही रास्ते पर है
नई दिल्ली: वित्त मंत्री अरुण जेटली ने GST को 'गब्बर सिंह टैक्स' बताने को लेकर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर पलटवार किया. उन्होंने कहा कि 2जी स्पेक्ट्रम और कोयला खान आवंटन में हुए घोटालों के आदी रहे लोगों को वैधानिक कर से आपत्ति है.

यह भी पढ़ें : वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पेश किया देश की अर्थव्यवस्था का रोडमैप, जानें 10 ख़ास बातें

काला दिवस मनाने के निर्णय की अालोचना की
वित्त मंत्री ने 8 नवंबर को 'काला दिवस' मनाने के विपक्षी दलों के निर्णय की भी आलोचना की. उन्होंने कहा कि इससे नकदी अर्थव्यवस्था को लेकर उनकी आस्था के बारे में पता चलता है. जेटली ने अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर बुलाए गए संवाददाता सम्मेलन में कहा, '2जी एवं कोयला ब्लॉक (आवंटन) घोटालों के आदि लोगों को वैधानिक कर से आपत्ति होने लगी.' एक दर्जन से अधिक केंद्रीय एवं राज्य करों को जोड़कर बनाए गए जीएसटी को सरकार ने ऐतिहासिक सुधार बताया है. इससे न केवल आर्थिक विकास को प्रोत्साहन मिलेगा, बल्कि कर चोरी भी रुकेगी.

यह भी पढ़ें : अर्थव्यवस्था पर सरकार ने सामने रखा रिपोर्ट कार्ड, जेटली बोले-देश का बुनियादी ढांचा काफी मजबूत

नोटबंदी के एक साल पूरा होने के अवसर पर विभिन्न विपक्षी दलों द्वारा 8 नवंबर को काला दिवस के रूप में मनाए जाने के निर्णय के बारे में पूछने पर जेटली ने बताया कि सरकार कम नकदी वाली अर्थव्यवस्था पर बल देती रहेगी. वित्त मंत्री ने कहा, वे निश्चित तौर पर ऐसा कर सकते हैं. इस प्रकार के जश्न में नकद अर्थव्यवस्था के प्रति उनके विश्वास का भी प्रदर्शन होगा.

VIDEO : सही रास्ते पर अर्थव्यवस्था : अरुण जेटली


उन्होंने यह भी कहा, सरकार इसे लेकर बहुत स्पष्ट है कि कम नकदी वाली अर्थव्यवस्था होनी चाहिए, लेकिन विपक्ष महसूस करता है कि नकदी वाली अर्थव्यवस्था बड़ी होनी चाहिए.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement