NDTV Khabar

RTI से हुआ खुलासा, रेलवे ने वीडियो लिंक के जरिए उद्घाटनों पर खर्च किए 13.46 करोड़ रुपए

रेलवे की इकाई रेलटेल कॉरपोरेशन ने कहा कि सरकार ने नौ नवंबर 2014 और तीन सितंबर 2017 के बीच इन उद्घाटनों पर 13.46 करोड़ रुपए खर्च किए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
RTI से हुआ खुलासा, रेलवे ने वीडियो लिंक के जरिए उद्घाटनों पर खर्च किए 13.46 करोड़ रुपए

रेलवे ने उद्घाटन पर खर्च किए 13 करोड़ से ज्यादा

नई दिल्ली: सूचना का अधिकार (RTI) कानून के तहत दायर एक अर्जी पर मिले जवाब से पता चला है कि रेल मंत्रालय ने नवंबर 2014 से सितंबर 2017 तक वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए विभिन्न रेल परियोजनाओं एवं सेवाओं के उद्घाटन पर 13.46 करोड़ रुपए खर्च किए. मुंबई में रहने वाले आरटीआई कार्यकर्ता मनोरंजन रॉय की अर्जी पर रेलटेल कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ने कहा कि नई ट्रेनों, अलग-अलग स्टेशनों पर लगाए गए एस्केलेटरों और बनाए गए फुट ओवर ब्रिजों, प्रतीक्षा गृहों, वीआईपी लाउंजों के वीडियो लिंक के जरिए उद्घाटन सहित 166 कार्यक्रमों पर 13.46 करोड़ रुपए खर्च किए गए.

यह भी पढ़ें: मुंबई : कल्याण स्टेशन पर मालगाड़ी की महिला गार्ड के साथ छेड़छाड़

रेलवे की इकाई रेलटेल कॉरपोरेशन ने कहा कि सरकार ने नौ नवंबर 2014 और तीन सितंबर 2017 के बीच इन उद्घाटनों पर 13.46 करोड़ रुपए खर्च किए. इस अवधि में सुरेश प्रभु रेल मंत्री पद पर थे. गौरतलब है कि रेलवे ने यात्रियों की सुरक्षा को लेकर भी एक बड़ा फैसला लिया है. इस फैसले के तहत रेलवे सुरक्षा बल ( RPF) ने ट्रेन में महिलाओं के साथ छेड़छाड़ के लिए तीन वर्ष जेल की सजा का प्रस्ताव दिया है. RPF के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रेलवे अधिनियम में शामिल किये जाने के लिए आरपीएफ द्वारा प्रस्तावित नये प्रावधानों में एक प्रावधान यह भी है कि ट्रेन में महिला के साथ छेड़छाड़ करने के लिए दोषी को तीन वर्ष जेल की सजा हो सकती है.

यह भी पढ़ें: राजधानी, शताब्दी और दूरंतों ट्रेनों में फ्लेक्सी फेयर पर PAC ने लिया यह फैसला

टिप्पणियां
अधिनियम में संशोधन किये जाने का यह प्रस्ताव यदि मंजूर हो जाता है तो एक महिला की अस्मिता को ठेस पहुंचाने के लिए सजा भारतीय दंड़ संहिता (आईपीसी) के तहत दी जाने वाली सजा की तुलना में रेलवे अधिनियम के तहत ज्यादा हो जायेगी. आईपीसी के तहत अधिकतम एक वर्ष जेल की सजा का प्रावधान है.

VIDEO: कोलकाता में गिरा 40 साल पुराना पुल.

अधिकारी ने बताया कि रेलगाड़ियों में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों के मद्देनजर आरपीएफ ने रेलवे अधिनियम में शामिल करने के लिए कुछ प्रावधानों का प्रस्ताव दिया है जिसमें राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) की मदद के बिना इस तरह के आरोपियों को पकड़ने का अधिकार उन्हें दिया जायेगा. (इनपुट भाषा से) 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement