NDTV Khabar

ट्रेन को समय पर चलाने को लेकर समिति ने रेलवे बोर्ड को सौंपी रिपोर्ट

रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर रेलगाड़ियों में यात्रियों की संख्या काफी कम है तो उन्हें रद्द किया जाना चाहिए और उपलब्ध रेलगाड़ियों में यात्रियों को एडजस्ट किया जाना चाहिए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ट्रेन को समय पर चलाने को लेकर समिति ने रेलवे बोर्ड को सौंपी रिपोर्ट

भारतीय रेल की फाइल फोटो

खास बातें

  1. रिपोर्ट के आधार पर बोर्ड ने जारी किया आदेश
  2. कई बड़े बदलाव की बात कही गई है
  3. ट्रेनों के रुकने के समय में भी बदलाव की बात
नई दिल्ली:

ट्रेन को समय पर चलाने के लिए रेलवे की एक समिति ने अपना सुझाव बोर्ड को सौंप दिया है. अपने सुझाव में समिति ने कहा है कि रेलवे को उन गाड़ियों को रद्द करना चाहिए जिनमें कम यात्री सफर करते हैं. साथ ही समिति ने रेलगाड़ियों के रुकने के समय में भी कमी लाने की बात कही है. गौरतलब है कि समिति ने रेलगाड़ियों की समय सारिणी को ठीक करने को लेकर तैयार रिपोर्ट रेलवे बोर्ड को सौंपा है. इस रिपोर्ट में रेलवे जोन के प्रदर्शन में सुधार के लिए भी कई अहम सुझाव दिए गए हैं.

यह भी पढ़ें: प्रीमियम रेलगाड़ियों में फ्लेक्सी फेयर में होगा सुधार, यात्रियों और रेलवे दोनों को होगा फायदा

रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर रेलगाड़ियों में यात्रियों की संख्या काफी कम है तो उन्हें रद्द किया जाना चाहिए और उपलब्ध रेलगाड़ियों में यात्रियों को एडजस्ट किया जाना चाहिए. इससे जहां गाड़ियों की संख्या कम होगी वहीं यात्रियों को भी दिक्कत नहीं होगी. इस रिपोर्ट को लेकर अधिकारियों ने बताया कि रेलवे बोर्ड ने विभिन्न जोन को निर्देश जारी कर दिए हैं कि खर्चीले हॉल्ट की सूची बनाई जाए. साथ ही या तो ऐसे हॉल्ट को खत्म किया जाए या फिर यहां गाड़ियों के ठहराव के समय को कम किया जाए.


यह भी पढ़ें: रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष लोहानी ने कहा, बेहतर नतीजे के लिए लीक से हटकर सोचें

रिपार्ट में बोर्ड को दीर्घ समय और अल्प समय में किए जाने वाले सुधारों पर भी सुझाव दिए गए हैं. अल्प समय के लक्ष्य में इसने रेल पटरियों पर बाड़ लगाने का प्रस्ताव दिया है ताकि मनुष्य, जानवर और वाहनों को इनसे दूर रखा जाए.

टिप्पणियां

VIDEO: भर्ती परीक्षाओं की प्रक्रिया पर उठ रहे हैं सवाल. 

रिपोर्ट में कहा गया है कि दीर्घ समय के उपायों में ट्रेनों के समय पर चलने के लिए रेलवे को उपनगरीय और मुख्य लाइन कोरीडोर को अलग करना चाहिए. साथ ही मालगाड़ी और कोचिंग कोरीडोर भी यथासंभव अलग किए जाने चाहिए. (इनपुट भाषा से) 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement