NDTV Khabar

रेलवे ने खड़गपुर में स्थापित की सबसे बड़ी इंटर लॉकिंग प्रणाली

इस प्रणाली से स्टेशन मास्टर कुछ ही मिनटों में ट्रेनों के लिये अलग-अलग रूट तय कर सकेंगे

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रेलवे ने खड़गपुर में स्थापित की सबसे बड़ी इंटर लॉकिंग प्रणाली

खास बातें

  1. स्टेशन मास्टर को मिलेगी राहत
  2. एक साथ कई ट्रेनों के परिचालन में मिलेगी मदद
  3. पहली बार इस्तेमाल की जा रही है यह तकनीक
खड़गपुर:  रेलवे ने खड़गपुर में एशिया का सबसे बड़ी सॉलिड स्टेट इंटरलॉकिंग (एसएसआई) प्रणाली स्थापित की है. इस प्रणाली से स्टेशन मास्टर महज कुछ ही मिनटों में ट्रेनों के लिये करीब 800 अलग-अलग रूट तय कर सकेंगे. इंटरलॉकिंग एक रेलवे सिग्नल उपकरण है जो ट्रेनों के विरोधाभासी आवागमन को जंक्शन या क्रॉसिंग जैसी पटरियों की व्यवस्था से रोकता है.

यह भी पढ़ें:रेल सुरक्षा पर बड़ा सवाल, भला कैसे थमेंगी दुर्घटनाएं जब खाली पड़े हैं 1.31 लाख पद

रेल मंत्रालय ने आज एक बयान में कहा कि इसे अत्याधुनिक तरीके से 39 करोड़ रूपये की लागत से स्थापित किया गया है जो 1989 से पहले के 423 रूटों वाली पुरानी रूट रिले इलेक्ट्रानिक इंटरलॉकिंग प्रणाली की जगह लेगी.

टिप्पणियां
VIDEO: इन ट्रेनों का जल्द किया जाएगा कायाकल्प 


इसके साथ ही एसएसआई सॉफ्टवेयर उन रूटों की भी पहचान करेगा जिन्हें कोई ट्रेन ले सकती है और इसकी सूचना पैनल पर काम कर रहे स्टेशन मास्टर को भी देगा जिससे संचालन का समय कम होने के साथ ही मानवीय चूकों की गुंजाइश भी कम होगी.(इनपुट भाषा से) 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement