NDTV Khabar

रेलवे ट्रैकमैन को दिया जाएगा व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण ‘रक्षक’

पटरियों की गश्त के दौरान रख-रखाव कर्मचारियों के ट्रेनों की चपेट में आने के मामलों को लेकर चिंतित रेलवे बोर्ड ने अब कर्मचारियों को एक व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण देने का निर्णय लिया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रेलवे ट्रैकमैन को दिया जाएगा व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण ‘रक्षक’

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. रेलवे ट्रैकमैन को दिया जाएगा व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण ‘रक्षक’
  2. रक्षक को 24 किलोमीटर लंबे दक्षिण मध्य रेलवे में लगाया गया है
  3. ट्रेनों के बारे में ट्रैकमैन को पहले बताने में यह सफल रहा है
नई दिल्ली: पटरियों की गश्त के दौरान रख-रखाव कर्मचारियों के ट्रेनों की चपेट में आने के मामलों को लेकर चिंतित रेलवे बोर्ड ने अब कर्मचारियों को एक व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण देने का निर्णय लिया है. ट्रैकमैन को जूते, दस्ताने, बरसाती, सर्दी में पहना जाने वाला जैकेट और औजार भी दिये जाते हैं. बोर्ड ने पिछले सप्ताह सभी ट्रैकमैन के लिए एक पायलट प्रोजेक्ट के रूप में उच्च घनत्व वाले क्षेत्रों में इस्तेमाल किए जा सकने वाले वॉकी टॉकी डिवाइस ‘रक्षक’ को मंजूरी प्रदान कर दी. 

यह भी पढ़ें: रेलवे पटरी पर धरना दे रहे थे किसान, तभी आ गई ट्रेन, फिर हुआ ये...

टिप्पणियां
बोर्ड ने सभी जोनल रेलवे को लिखे एक पत्र में कहा है, ‘‘पटरी पर ड्यूटी के दौरान ट्रैकमैन के कुचले जाने की भारी संख्या को देखते हुये रक्षक प्रकार का एक सुरक्षा प्रणाली का इस्तेमाल करना जरूरी है और इसे शीघ्रता से लागू करने की आवश्यकता है.’’ पत्र में कहा गया है, ‘‘हालांकि, प्रणाली अभी शुरूआती चरण में है और समूचे रेल नेटवर्क पर इसे लागू करना संभव नहीं है. 

VIDEO: रेलवे ट्रैक पर सेल्फी लेते तीन लड़कों को ट्रेन ने रौंदा
हालांकि, लोगों के कुचले जाने की भारी संख्या को देखते हुये प्रायोगिक आधार पर समूचे उच्च घनत्व वाले नेटवर्क पर रक्षक तरह की सुरक्षा प्रणाली तैनात किये जाने का निर्णय किया गया है.’’ रक्षक को 24 किलोमीटर लंबे दक्षिण मध्य रेलवे में लगाया गया है और आने वाली ट्रेनों के बारे में ट्रैकमैन को पहले बताने में यह सफल रहा है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement