NDTV Khabar

फील्ड कर्मचारियों का उत्पीड़न रोकने के लिए खाका तैयार करेगा रेलवे

बोर्ड के पत्र में जोनल रेलवे कार्यालयों को कहा गया है कि वे सिफारिशों पर कार्यान्वयन सुनिश्चित करें और उसपर कार्रवाई रिपोर्ट सौंपें.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
फील्ड कर्मचारियों का उत्पीड़न रोकने के लिए खाका तैयार करेगा रेलवे

भारतीय रेल की फाइल फोटो

नई दिल्ली:

रेलवे ने अपने जोनल कार्यालयों से कहा है कि वे इस बात को सुनिश्चित करने के लिए खाका तैयार करें कि रखरखाव के काम में विलंब की स्थिति में ट्रैकमैन, गैंगमैन और सेक्शन अधिकारियों जैसे फील्डकर्मियों को प्रताड़ित न किया जाए. यह निर्णय 19 अगस्त 2017 को पुरी - हरिद्वार उत्कल एक्सप्रेस के दुर्घटनाग्रस्त होने पर तैयार रेलवे सुरक्षा ( उत्तर जोन ) आयुक्त की रिपोर्ट के आधार पर लिया गया है. इसमें सुझाव दिया गया है कि रेलवे को ऐसी व्यवस्था विकसित करनी चाहिए जिससे उत्पीड़न और एक-दूसरे पर दोषारोपण को रोका जा सके, क्योंकि यह मनोबल और फील्डकर्मियों की निर्णय लेने की क्षमता को प्रभावित करता है. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्वनी लोहानी ने कहा कि यह अधिक प्रासंगिक है.

यह भी पढ़ें: रेलवे को करीब 90 हजार नौकरियों के लिए मिले 2.37 करोड़ से ज्यादा आवेदन


असुरक्षित स्थिति से बचने के लिए हमारे कर्मचारियों को अग्रसक्रिय होकर कदम उठाने के लिये प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है. बोर्ड के पत्र में जोनल रेलवे कार्यालयों को कहा गया है कि वे सिफारिशों पर कार्यान्वयन सुनिश्चित करें और उसपर कार्रवाई रिपोर्ट सौंपें. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कई बार रखरखाव का काम समय पर पूरा नहीं होने के कारण कई ट्रेनों में विलंब होता है. उन्होंने कहा कि कर्मचारियों को देरी के लिए स्पष्टीकरण देना पड़ता है और कार्यस्थल पर उत्पीड़न भी झेलना पड़ता है.

यह भी पढ़ें: देश को जनवरी 2019 तक मिलेगा ‘हवाई अड्डे जैसा’ रेलवे स्टेशन

यात्री और उनके वरिष्ठ अधिकारी फील्ड कर्मचारियों को दोषी ठहराते हैं और यह एक बड़ा मुद्दा बन जाता है. हालांकि , इस देरी का कारण सुरक्षा सुनिश्चित करना होता है. अधिकारियों ने कहा कि बोर्ड से पत्र रेल मंत्रालय के उस अभियान का हिस्सा है.

टिप्पणियां

VIDEO: फिर चल पड़ी पुरानी रेलगाड़ी.

ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि रेलवे नेटवर्क में कर्मचारियों , विशेष रूप से ट्रैकमेन , गैंगमेन , सेक्शन अधिकारी जैसे कर्मचारी जो भी काम वो करते हैं उससे संतुष्ट हों, क्योंकि यही कर्मचारी पटरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करते हैं. (इनपुट भाषा से) 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement