रेलवे ने अमृतसर हादसे के लिए स्थानीय प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया

रेलवे ने कहा- पुतला दहन देखने के लिए लोगों का वहां पटरियों पर एकत्र होना अतिक्रमण का सीधा मामला

रेलवे ने अमृतसर हादसे के लिए स्थानीय प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया

हादसे के बाद घटनास्थल पर बिलखते हुए लोग.

खास बातें

  • कार्यक्रम के लिए रेलवे से कोई इजाजत नहीं दी गई
  • कहा- प्रशासन को कार्यक्रम का पता था, एक मंत्री की पत्नी भी पहुंचीं थीं
  • काफी धुंआ होने की वजह से ट्रेन का चालक कुछ भी देखने में असमर्थ था
नई दिल्ली:

दशहरे के मौके पर अमृतसर के पास हुए हादसे को लेकर रेलवे का कहना है कि पुतला दहन देखने के लिए लोगों का वहां पटरियों पर एकत्र होना स्पष्ट रूप से अतिक्रमण का मामला था. इस कार्यक्रम के लिए रेलवे द्वारा कोई मंजूरी नहीं दी गई थी.

अमृतसर प्रशासन पर इस हादसे की जिम्मेदारी डालते हुए आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि स्थानीय अधिकारियों को दशहरा कार्यक्रम की जानकारी थी और इसमें एक वरिष्ठ मंत्री की पत्नी ने भी शिरकत की. रेलवे अधिकारियों ने कहा, ‘‘हमें इस बारे में जानकारी नहीं दी गई थी और हमारी तरफ से कार्यक्रम के लिए कोई मंजूरी नहीं दी गई थी. यह अतिक्रमण का स्पष्ट मामला है और स्थानीय प्रशासन को जिम्मेदारी लेनी चाहिए.''    

यह भी पढ़ें : अमृतसर हादसा : ट्रेन धड़धड़ाती हुई आ रही थी और लोग ट्रैक पर सेल्फी ले रहे थे

इतनी भीड़ होने के बावजूद रेल चालक द्वारा गाड़ी नहीं रोके जाने को लेकर सवाल उठने पर अधिकारी ने कहा, ‘‘वहां काफी धुंआ था जिसकी वजह से चालक कुछ भी देखने में असमर्थ था और गाड़ी घुमाव पर भी थी.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO : जश्न मना रहे लोगों के ऊपर से गुजर गई ट्रेन

(इनपुट भाषा से)